kashivishwanathcorridor: तस्वीरों में देखिए kashi को मिलीं ये बड़ी सौगातें


वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुजरात और केंद्र की सरकार की अगुआई के रूप में संवैधानिक पद की जिम्मेदारी संभालते हुए अपने 20 साल पूरे कर लिए हैं। इस अवधि में करीब 13 साल के लिए वे गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। मोदी का धार्मिक आस्था से पुराना और गहरा जुड़ाव रहा है। इस दौरान उन्‍होंने राष्ट्रीय महत्व की कई परियोजनाओं को शुरू किया और अंजाम तक पहुंचाया। साथ ही विभिन्न परिवर्तनकारी पहल भी शुरू कीं। देश में सैकड़ों वर्षों पुराने मंदिरों को पुनरुद्धार करना भी शामिल हैं। जिसमें काशी विश्‍वनाथ, अयोध्‍या राम मंदिर और कश्‍मीर के मंदिरों का पुनरूद्धार शामिल है। आज हम आपको तस्वीरों के जरिए बता रहे हैं पिछले 20 सालों में मोदी ने देश के इन बड़े मंदिरों में क्या बड़ी सौगातें दीं…

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

अयोध्‍या का राम मंदिर
9 नवंबर 2019 को 70 से भी ज्‍यादा सालों से चल रहे श्री रामजन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट ने हिंदुओं के पक्ष में फैसला सुनाया। जिसके बाद हिंदू समाज का पांच सदियों पुराना सपना और संघर्ष पूरा हो गया। इस फैसले के महत्व का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अयोध्या के आसपास के लगभग 105 गांवों के सूर्यवंशी क्षत्रिय कबीले के लोगों को श्री रामजन्मभूमि मंदिर पर नियंत्रण होने तक पगड़ी और जूतों के इस्तेमाल से दूर रहने के 500 साल पुराने संकल्प को तोड़ने में मदद की। फैसले के बाद, नरेंद्र मोदी सरकार तेजी से आगे बढ़ी और पांच सदियों पुराना सपना तब साकार हुआ जब अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हुआ, जिसकी आधारशिला खुद प्रधानमंत्री ने अगस्त 2020 में रखी थी। जैसा कि अयोध्या एक भव्य श्री राम मंदिर के पूरा होने का इंतजार कर रहा है, उनकी सरकार ने पहले ही पूरे क्षेत्र को एक प्रमुख हिंदू तीर्थ केंद्र के रूप में स्थापित करने की योजना बनाई है। (kashivishwanathcorridor)
 

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Kashi Vishwanath Temple

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर
काशी विश्वनाथ मंदिर, अपनी दिव्यता के बावजूद, अपनी भीड़भाड़ और गंदी गलियों के लिए भी जाना जाता था; इतना ही कि महात्मा गांधी ने 4 फरवरी 1916 को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय का उद्घाटन करने के लिए काशी का दौरा करते समय इसके बारे में बात की थी। नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद, उन्होंने काशी के बेसिक इंफ्रा पर काम करना शुरू हुआ। 8 मार्च 2019 को, पीएम मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के पुनर्विकास और पुनरुद्धार के लिए अपनी सबसे महत्वाकांक्षी परियोजना काशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना शुरू की।  (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Kashi Vishwanath Corridor

जब इस परियोजना की परिकल्पना की गई थी तो मंदिर परिसर के चारों ओर घनी संरचनाओं को देखते हुए इसे असंभव माना जा रहा था। विचार मौजूदा विरासत संरचनाओं को संरक्षित करना, मंदिर परिसर में नई सुविधाएं प्रदान करना, मंदिर के आसपास के लोगों के आवागमन और आवाजाही को आसान बनाना और मंदिर को घाटों से सीधे दृश्यता से जोड़ना था। पीएम मोदी का ध्यान गंगा नदी और काशी विश्वनाथ मंदिर के बीच एक सहज संबंध स्थापित करने पर था ताकि तीर्थयात्रियों को मंदिर में गंगाजल चढ़ाने के लिए नदी से स्नान करने और पानी ले जाने में आसानी हो। पीएम के मार्गदर्शन में संपत्तियों का अधिग्रहण फ्लेसिबल तरीके से किया गया ताकि किसी को असुविधा न हो। जिसकी वजह से पूरा प्रोजेक्‍ट मुकदमेबाजी मुक्त हो गया। मंदिर के चारों ओर की इमारतों के विध्वंस से कम से कम 40 बहुत प्राचीन मंदिरों रिकवरी हुई। 13 दिसंबर को पीएम द्वारा इसके उद्घाटन की प्रतीक्षा कर रहे हैं। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Somnath Mandir

सोमनाथ मंदिर परिसर
गुजरात के सीएम के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, नरेंद्र मोदी ने मंदिर परिसर के सौंदर्यीकरण को ऊपर उठाने के लिए कई परियोजनाएं शुरू कीं। हाल ही में, पीएम मोदी ने सोमनाथ मंदिर परिसर में एक प्रदर्शनी केंद्र, समुद्र तट पर सैरगाह का उद्घाटन किया। पीएम मोदी की अध्यक्षता में श्री सोमनाथ ट्रस्ट सोमनाथ मंदिर की महिमा को बनाए रखने और सुधारने के लिए लगातार काम कर रहा है। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Kedarnath Mandir

केदारनाथ धाम
मोदी सरकार ने केदारनाथ धाम का दोबारा से विकास किया, जिसने 2013 की बाढ़ में व्यापक विनाश को देखा गया था। न केवल पूरे मंदिर परिसर का दोबारा से तैयार किया गया बल्‍कि पूरी तरह से बदल दिया गया है। साथ ही मंदिर को उसकी पूर्ण महिमा में बहाल करने के लिए नए परिसर भी जोड़े गए हैं। हाल ही में केदारनाथ मंदिर परिसर का उद्घाटन करते हुए, पीएम मोदी ने कहा था कि कैसे केदारनाथ का पुनर्विकास उन्हें व्यक्तिगत रूप से प्रिय था। उन्‍होंने 2013 और उसके बाद 2017 में अपने भाषण में केदारनाथ को दोबारा पुनर्विकसित करने की बात कही थी। (kashivishwanathcorridor)
 

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Char Dham Project Layout

चार धाम परियोजना
मोदी सरकार ने यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ के चार तीर्थ स्थलों को जोड़ने वाले एक आधुनिक और विस्तृत चार धाम सड़क नेटवर्क के निर्माण को मंजूरी देकर चार धाम परियोजना की शुरुआत की। यह योजना देश भर से इन चार पवित्र स्थानों पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए अनुकूल और आसान पहुंच प्रदान करेगी। सड़क नेटवर्क के समानांतर, रेलवे लाइन की तीव्र गति से भी काम चल रहा है जो पवित्र शहर ऋषिकेश को कर्णप्रयाग से जोड़ेगा, जिसके 2025 तक चालू होने की संभावना है। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

विदेशों में भी किया मंदिरों को पुनर्जिवित करने का प्रयास
पीएम के मंदिर निर्माण के प्रयास केवल भारत तक ही सीमित नहीं हैं, बल्कि उन्होंने विदेशों में भी मंदिरों के विकास/पुनर्विकास में मदद की है। 2019 में, उन्होंने मनामा, बहरीन में 200 साल पुराने भगवान श्री कृष्ण श्रीनाथजी (श्री कृष्ण) मंदिर की 4.2 मिलियन डॉलर पुनर्विकास परियोजना का शुभारंभ किया। इसके अलावा, प्रधानमंत्री ने 2018 में अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास किया। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Temple in Kashmir

कश्मीर में मंदिर बहाली
जब से अनुच्छेद 370 को समाप्‍त किया गया है और जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया है, तब से सरकार ने श्रीनगर, कश्मीर में कई धार्मिक स्थलों के नवीनीकरण पर काम करना शुरू किया है। उपलब्ध अनुमानों के अनुसार, कश्मीर में कुल 1,842 हिंदू पूजा स्थल हैं जिनमें मंदिर, पवित्र झरने, गुफाएं और पेड़ शामिल हैं। 952 मंदिरों में से 212 चल रहे हैं जबकि 740 जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं। बहाल किया जा रहा पहला मंदिर श्रीनगर में झेलम नदी के तट पर स्थित रघुनाथ मंदिर है। भगवान राम को समर्पित मंदिर का निर्माण पहली बार 1835 में महाराजा गुलाब सिंह द्वारा किया गया था। हालांकि, यह परियोजना अभी भी अपने शुरआती दौर में है, फिर भी यह एक साहसिक पहल है। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Kashi Vishwanath Corridor

भारत का आध्यात्मिक जागरण
पीएम मोदी का मानना है कि भारत का आध्यात्मिक जागरण तभी हो सकता है जब उसके धार्मिक और दैवीय स्थानों को उनके पुराने गौरव के साथ बहाल किया जाए। इसलिए इस क्षेत्र में उनके सभी प्रयास हमारे स्थापित धार्मिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक केंद्रों की महिमा को बहाल करने पर केंद्रित हैं। प्रधानमंत्री ने देश भर में हमारे प्रसिद्ध तीर्थस्थलों और पवित्र स्थलों के मंदिर पुनर्निर्माण और नवीनीकरण अभियान की शुरुआत की है। वह पवित्र हिंदू तीर्थ स्थलों पर चल रहे सभी मंदिर पुनर्निर्माण प्रयासों की अध्यक्षता करते हैं। उनके दूरदर्शी नेतृत्व में आधुनिक भारतीय राष्ट्र को उसकी आध्यात्मिक नींव के करीब लाया जा रहा है। भारत उन्हें एक मंदिर निर्माता और एक हिंदू आस्था के राजदूत के रूप में देख रहा है। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

Kashi Vishwanath Corridor

काशी में कौन भूलेगा- वह अमर पंक्तियां…मुझे मां गंगा ने बुलाया है
आज भी जन-जन के जेहन में पीएम मोदी के वह वाक्य गूंजते होंगे जब वह चुनाव के लिए नामांकन भरने काशी आए थे और बोले थे….“न मैं यहाँ आया हूँ न यहाँ लाया गया हूँ मुझे माँ गंगा ने बुलाया है।” इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने शहर के पुनर्निर्माण का रास्ता अपनाया। उनके श्रम का फल जल्द ही बुनियादी ढांचे के विकास और काशी के 360 डिग्री परिवर्तन के साथ दिखाई देने लगा। लेकिन, काशी विश्वनाथ मंदिर को अतीत की आभा प्राप्त करने में मदद करने के लिए योगदान देना पीएम मोदी का आजीवन सपना था। इसके साथ ही उन्होंने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के विकास की यात्रा शुरू की थी। (kashivishwanathcorridor)
 

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

kashivishwanathcorridor

खोई हुई परंपरा को बहाल करना
– काशी में सदियों पुरानी परंपरा है कि लोग गंगा नदी में स्नान करते हैं, पवित्र नदी से जल ले जाते हैं और मंदिर में गंगाजल चढ़ाते हैं। सदियों से आसपास के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर निर्माण और अतिक्रमण के कारण यह परंपरा लुप्त होती जा रही है। मोदी की लंबे समय से पुरानी परंपरा को बहाल करने की इच्छा थी। इसे प्राप्त करने के लिए, पीएम मोदी ने गंगा नदी को काशी विश्वनाथ मंदिर से जोड़ने के लिए काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को मूर्तरूप देने की ठानी।
– काशी में इतनी घनी आबादी, तमाम प्रकार की असहमतियों के बीच सबसे बड़ी बाधा तो संपत्तियों का अधिग्रहण थी। सबका प्रयास के इस दृष्टिकोण के परिणामस्वरूप परियोजना मुकदमेबाजी मुक्त हो गई। लगभग 400 परिवारों के इस महादान से परियोजना के लिए भूमि उपलब्ध हुई।
– साल 2017 की साइट की तस्वीरों और वर्तमान तस्वीरें, इस बात की गवाही दे रही हैं कि इस परियोजना को पूरा करने में कितनी चुनौतियों को पार किया गया है। पीएम की यही दूरदर्शिता ने इस गलियारे को बनाने और इसे अस्तित्व में लाने में मदद की।
– परियोजना की यात्रा का दूसरा हिस्सा इसका डिजाइन और विकास था। मोदी ने ना सिर्फ आर्किटेक्ट्स को शुरुआती ब्रीफिंग दी, बल्कि आर्किटेक्चरल डिजाइन के लिए लगातार इनपुट और अंतर्दृष्टि भी दी, जिसमें प्रोजेक्ट के 3डी मॉडल के जरिए समीक्षा भी शामिल है। विस्तार पर उनका ध्यान क्षेत्र को विकलांगों के अनुकूल बनाने के उनके इनपुट में भी दिखाई देता है। 
– परियोजना के डिजाइन के साथ मोदी ने इसे पूरा कराने में भी सक्रिय भूमिका निभाई। कोविड के बावजूद पीएम के प्रयासों ने परियोजना को रिकॉर्ड समय में पूरा करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
– पीएम की दूरदर्शिता तब काम आई जब इमारतों के विध्वंस के दौरान श्री गंगेश्वर महादेव मंदिर, मनोकामेश्वर महादेव मंदिर, जौविनायक मंदिर, श्री कुंभ महादेव मंदिर आदि जैसे 40 से अधिक प्राचीन मंदिरों की खोज की गई, जो वर्षों से रास्ते में बहुमंजिला इमारतों में समाहित हो गए थे। ये कोई ‘छोटा’ मंदिर नहीं हैं, उनमें से प्रत्येक का एक इतिहास है जो कुछ सदियों की परंपरा को बताती है। फिर से खोजे गए ये मंदिर शहर की गौरवशाली विरासत को और समृद्ध करेंगे।
– खोई हुई विरासत की यह पुनर्खोज प्रधानमंत्री की दृष्टि और खोई हुई विरासत को विदेशी भूमि से भी वापस लाकर सांस्कृतिक बहाली के अथक प्रयासों के अनुरूप है। यह हाल ही में कनाडा से मां अन्नपूर्णा देवी की दुर्लभ मूर्ति को वापस लाने और काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित करने के उनके प्रयास के माध्यम से इसका प्रतीक था।

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

काशी में रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर (Rudraksh Convention Centre)
दुनिया के सबसे प्राचीनतम शहरों में से एक वाराणसी के सिगरा में इस रुद्राक्ष सेंटर को जापान की सहयोग से बनाया गया है। इसकी लागत करीब 186 करोड़ रुपए के करीब है। इसमें 1200 लोगों के बैठने की व्यवस्था है। इसे शिवलिंग की तरह डिजाइन किया गया है। जिसके मुख्य भाग पर 108 रुद्राक्ष हैं, इस कन्वेंशन सेंटर के पीछे का भवन काशी दर्शन के अनुकूल स्थानों की परंपरा से प्रेरित है। विभाज्य बैठक कक्ष, आर्ट गैलरी और बहुउद्देश्यीय पूर्व-कार्य क्षेत्रों जैसी आधुनिक सुविधाओं के साथ, यह स्थान कलाकारों को खुद को प्रदर्शित करने और लोगों के साथ बातचीत करने के अवसर प्रदान करता है। (kashivishwanathcorridor)
 

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

PM मोदी संग 11 मुख्यमंत्री और 9 उपमुख्यमंत्री होंगे क्रूज पर संवार, पहली बार होगा ऐसा नजारा

कनेक्टिविटी (Connectivity)
गोदौलिया में मल्टी लेवल पार्किंग। पंचकोसी परिक्रमा रोड (भक्त तीर्थयात्रियों के लिए)। गंगा नदी पर पर्यटन विकास के लिए रो-रो वेसल्स और वाराणसी-गाजीपुर हाईवे पर थ्री-लेन फ्लाईओवर ब्रिज। 153 किलोमीटर की 47 ग्रामीण संपर्क सड़कों के निर्माण के लिए 111.26 करोड़ रुपये। लहरतारा-चौकाघाट फ्लाईओवर एक फूड कोर्ट और खुले कैफे से भरा हुआ है। बाबतपुर को शहर (एयरपोर्ट रोड) से जोड़ने वाली सड़क भी वाराणसी की एक नई पहचान बन गई है। रिंग रोड, दो रेल ओवरब्रिज और एक फ्लाईओवर के साथ, NH 56 (लखनऊ-वाराणसी), NH 233 (आजमगढ़-वाराणसी), NH 29 (गोरखपुर-वाराणसी) और अयोध्या-वाराणसी राजमार्गों पर वाराणसी को बायपास करने के लिए यातायात की सुविधा देगा, जिससे शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या खत्म होगी। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

 रिंग रोड बौद्ध तीर्थयात्रा के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल सारनाथ के लिए आसान और अधिक सुविधाजनक पहुंच मार्ग। मोदी ने दो महत्वपूर्ण सड़कों का उद्घाटन किया, जिनकी कुल लंबाई 34 किलोमीटर है और इसे 1,571.95 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। 16.55 किलोमीटर लंबी वाराणसी रिंग रोड फेज- I को 759.36 करोड़ की लागत से बनाया गया है, जबकि NH-56 पर 17.25 किलोमीटर बाबतपुर-वाराणसी-सड़क के चार लेन और निर्माण के काम में 812.59 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। (#kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

विरासत (Heritage)
धामेक स्तूप, सारनाथ में एक ध्वनि और प्रकाश शो है। वाराणसी को त्वरित प्रतिक्रिया (क्यूआर) कोड के साथ ‘स्मार्ट साइनेज’ प्रदान किए गए हैं। ये साइनेज आगंतुकों और पर्यटकों को विरासत स्थलों के सांस्कृतिक महत्व और शहर के 84 प्रतिष्ठित घाटों के बारे में जानकारी देते हैं जो अपनी प्राचीनता और स्थापत्य सुंदरता के लिए जाने जाते हैं। अस्सी घाट और खिडकिया घाट पर भी स्थापित किया गया है, दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती, तुलसी घाट पर वार्षिक नाग नाथैया कार्यक्रम जैसे विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी प्रदान करता है। मणिकर्णिका घाट और हरिश्चंद्र घाट पर स्मार्ट साइनेज, जहां लोगों का अंतिम संस्कार किया जाता है, लोगों को इन घाटों के पारंपरिक अनुष्ठानों के बारे में जानने के लिए है। दशाश्वमेध-गोदौलिया क्वार्टर और पुरानी काशी-राज मंदिर सड़क का सुधार, नदेसर तालाब का विकास और सौंदर्यीकरण, मान सिंह वेधशाला पर जीर्णोद्धार कार्य, पिपलानी कटरा कबीर चौरा से अस्सी घाट हेरिटेज वॉक या जीर्णोद्धार कार्य और लाट भैरव, दुर्गा कुंड और लक्ष्मी कुंड जैसे कुंडों का कायाकल्प, ये पहल आधुनिक तकनीक की मदद से काशी के गौरव को बहाल करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में किए जा रहे प्रयासों का प्रमाण हैं। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

विश्वनाथ कॉरिडोर उद्घाटन के साथ 1 महीने तक काशी में आयोजित होंगे विशेष कार्यक्रम

हेल्थ सुविधाएं (Health Infrastructure)
काशी पूर्वांचल के सबसे बड़े चिकित्सा केंद्रों में से एक के रूप में उभर रहा है। पीएम ने शहर में मरीजों को आपातकालीन सेवाएं देने के लिए बीएचयू ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन किया था। अब इमरजेंसी वार्ड में ट्रॉमा सेंटर में बेड की संख्या 4 से बढ़ाकर 20 कर दी गई है। शहर के लिए दो कैंसर अस्पताल। पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर अस्पताल और होमी भाभा कैंसर अस्पताल, लहरतारा। ये अस्पताल यूपी और आसपास के राज्यों एमपी, छत्तीसगढ़, झारखंड, बिहार के मरीजों को व्यापक उपचार प्रदान करते हैं। पीएम मोदी ने आईएमएस बीएचयू में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य (एमसीएच) इकाई का भी उद्घाटन किया था, जिसमें 100 बिस्तर की सुविधा है। बीएचयू में क्षेत्रीय नेत्र संस्थान का उद्घाटन किया गया, जिससे वाराणसी के नागरिकों को आंखों से संबंधित बीमारियों का आधुनिक उपचार मिल सके। इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (IMS), बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) को 2018 में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के स्तर पर अपग्रेड किया गया था। 2020 में एक 430 बेड सुपर स्पेशियलिटी सरकारी अस्पताल का भी उद्घाटन किया गया था, जो कोविड की लहर के दौरान मददगार था। (kashivishwanathcorridor)

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

रेलवे स्टेशन और ट्रेनें (Railway Station and Trains)
वाराणसी में मंडुआडीह रेलवे स्टेशन को विश्व स्तरीय स्टेशन में बदल दिया गया है। नवीनतम सुविधाओं से लैस मंडुआडीह रेलवे स्टेशन किसी हवाई अड्डे से कम नहीं है। रेलवे स्टेशन में अब एयर कंडीशन वेटिंग लाउंज, स्टेनलेस स्टील लाउंज, एलईडी लाइट जैसी सुविधाओं से लैस है। भारतीय रेलवे ने परिसर को सुशोभित करने के लिए फव्वारे भी जोड़े हैं। स्टेशन में कैफेटेरिया, फूड कोर्ट, बुकिंग और आरक्षण कार्यालय, प्रतीक्षालय और बहुत कुछ है। काशी महाकाल एक्सप्रेस तीन तीर्थ शहरों-वाराणसी, उज्जैन और ओंकारेश्वर को जोड़ेगी। वहीं, महामना एक्सप्रेस वाराणसी वालों के लिए एक बड़ी सौगात है। (kashivishwanathcorridor)
 

PM Narendra Modi till now contribution construction these big temples country and kashi varanasi these big developments done UDT

अन्य परियोजनाएं ( Other Projects )
मोदी ने जुलाई, 2021 में लगभग 744 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का उद्घाटन किया था और लगभग 839 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं और सार्वजनिक कार्यों की आधारशिला रखी थी। इनमें सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग का कौशल और तकनीकी सहायता केंद्र शामिल है। प्रौद्योगिकी (सिपेट), जल जीवन मिशन के तहत 143 ग्रामीण परियोजनाएं और करखियांव में आम और सब्जी एकीकृत पैक हाउस। प्रोफेसरों के लिए बीएचयू में नए आवासीय क्वार्टर बनाने के लिए 92 करोड़ रुपये खर्च किए गए। रामेश्वर में 6 स्थानों पर एलईडी स्क्रीन व साउंड सिस्टम व पर्यटन विकास कार्य। लोकप्रिय कृषि उत्पादों के निर्यात की सुविधा के लिए करखियां के लिए एकीकृत पैक हाउस। (kashivishwanathcorridor)


Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

I Have Disabled The AdBlock Reload Now
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro