भारतीय सेना को नकदी संकट का करना पड़ रहा है सामना, सैन्य उपकरण और प्लेटफॉर्म्स को लीज पर लेना के लिए मजबूर

नई दिल्ली, 12 मई

विमान, हल्के हेलीकॉप्टर और ट्रेनर विमानों से लेकर ड्रोन तक में ईंधन की कमी के बीच भारतीय सेना को नकदी संकट का भी सामना करना पड़ रहा है। आलम यह है कि फंड की कमी से जूझ रहे सेना को सशस्त्र बलों के लिए त्वरित अभियान चलाने के लिए सैन्य उपकरण और प्लेटफॉर्म्स को लीज पर लेना पड़ रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया में सूत्रों के हवाले से प्रकाशित एक खबर के मुताबिक, मिसाल के तौर पर आर्मी अब इजरायल से चार उन्नत हेरॉन मार्क- II मध्यम ऊंचाई वाले यूएवी (मानवरहित हवाई वाहन) के लीज पर लेने की प्रक्रिया अंतिम रूप देने में जुट गई है। भारतीय नौसेना पहले से ही नवंबर में एक अमेरिकी फर्म को लीज पर देने के बाद हिंद महासागर पर लंबी दूरी के निगरानी मिशनों के लिए स्थापित एमक्यू -9 बीसी गार्जियन ड्रोन और सशस्त्र प्रीडेटर ड्रोन के वेरिएंट का उपयोग कर रही है।

खबर के अनुसार, समुद्री बल ने हाल ही में पांच रखरखाव की अवधि के लिए सभी 24 डबल इंजन वाले सशस्त्र लाइट हेलीकॉप्टरों के पट्टे के लिए विदेशी कंपनियों को निविदा (आरएफआई) आमंत्रित किया है। वहीं, युद्धपोतों से संचालित एकल-इंजन चेतक हेलिकॉप्टरों के मौजूदा बेड़े को बदलने के लिए विदेशी सहयोग के साथ 111 नौसैनिक हेलिकॉप्टरों के लिए 21,000 करोड़ रुपये की मेक इन इंडिया परियोजना को शुरू करने में निरंतर देरी के कारण यह कदम उठाया गया है।

एक अधिकारी ने बताया कि इसका उद्देश्य अल्पकालिक क्षमता अंतराल को कम करना है। पिछले अक्टूबर में रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया में एक अलग प्रावधान के रूप में लीज की प्रक्रिया को पेश किया गया था। यह समय की देरी और प्रारंभिक पूंजी लागत में कटौती करेगा। उधर, भारतीय वायु सेना प्रशिक्षण प्रयोजनों के लिए अब फ्रांस से एक ए-330 मल्टी-रोल टैंकर परिवहन (एमआरटीटी) विमान के पट्टे को अंतिम रूप देने में जुट गई है। यह छह लड़ाकू उड़ान भरने वाले विमान (एफआरए) खरीदने के लिए बार-बार प्रयास किया गया है।

Leave a Comment