मजीठिया को हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, नामांकन भरने पर भी लटकी तलवार, कभी भी गिरफ़्तारी..

The News Air- ड्रग्स केस में फंसे अकाली नेता बिक्रम मजीठिया को बड़ा झटका लगा है। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने मजीठिया की अग्रिम ज़मानत याचिका खारिज कर दी है। इससे मजीठिया के विस चुनाव नामांकन भरने को लेकर तलवार लटक गई है। पंजाब चुनाव के लिए नामांकन कल से शुरू हो रहे हैं, जो 1 फरवरी तक चलेंगे। बिना ज़मानत के मजीठिया मिले तो पंजाब पुलिस उन्हें गिरफ़्तार करेगी। ऐसे में उनके लिए मुश्किल खड़ी हो गई है। हालांकि मजीठिया के वकीलों ने हाईकोर्ट से नामांकन भरने और सुप्रीम कोर्ट तक जाने के लिए मोहलत माँगी है। इस पर कोर्ट के विस्तृत ऑर्डर आने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

यह भी पढ़ें- कैप्टन ने सिद्धू को मंत्री बनाने को लेकर किया बड़ा खुलासा, बोले-पाकिस्तानी PM इमरान..

मजीठिया पर गंभीर आरोप

ड्रग्स केस में मजीठिया पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। इसमें कहा गया कि कनाडा के रहने वाले ड्रग तस्कर सतप्रीत सत्ता मजीठिया की अमृतसर और चंडीगढ़ स्थित सरकारी कोठी में भी ठहरते रहे। यहां तक कि मजीठिया ने उसे गाड़ी और गनमैन दे रखा था। मजीठिया को चुनाव के लिए नशा तस्करों से फ़ंड लेने के साथ दबाव डालकर नशा दिलवाने और समझौते करवाने का आरोपी बनाया गया है। हालांकि अकाली दल इसे राजनीतिक बदलाखोरी की कार्रवाई क़रार देता रहा।

यह भी पढ़ें- NDA में सीटों का बँटवारा, इतनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी BJP और कैप्टन की पार्टी

CM चन्नी ने कहा : हाईकोर्ट के फ़ैसले का स्वागत

सीएम चरणजीत सिंह ने कहा कि नशे से पंजाब की माताओं की कोख उजाड़ी गई। युवाओं को बर्बाद किया गया। पंजाब की आर्थिक स्थिति तबाह की गई। मजीठिया की ज़मानत खारिज करने पर हम हाईकोर्ट का स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि मजीठिया के ख़िलाफ़ क़ानून के अनुसार कार्रवाई की थी। जो करेगा, उसे भुगतना भी पड़ेगा।

सुखबीर बोले- सियासी रंजिश निकाली गई

सुखबीर बादल ने डीजीपी सिद्धार्थ चट्‌टोपाध्याय पर जमकर निशाने साधे। उन्होंने कहा कि पूरी साज़िश रचकर मजीठिया के ख़िलाफ़ केस दर्ज़ किया गया। उन्होंने कहा कि मजीठिया के ख़िलाफ़ राजनीतिक रंजिश निकाली जा रही है।

यह भी पढ़ें- सिद्धू का दावा- AAP ने किया CM Face Scam, बोले- पंजाब को मूर्ख..

कौन हैं बिक्रम मजीठिया ?

बिक्रम मजीठिया अकाली दल के दिग्गज नेता और पंजाब सरकार के पूर्व मंत्री हैं। वह अमृतसर की मजीठा विधानसभा सीट से लगातार 3 बार विधायक चुने जा चुके हैं। इस बार भी वह मजीठा से ही चुनाव लड़ रहे हैं। वह अकाली दल प्रधान सुखबीर सिंह बादल की सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री पत्नी हरसिमरत कौर बादल के रिश्तेदार हैं।

सिद्धू भी साध रहे निशाने, कांग्रेस ने बनाया चुनावी मुद्दा

पंजाब कांग्रेस प्रधान भी लगातार मजीठिया को लेकर निशाना साधते रहे हैं। उनका कहना है कि पंजाब में नशा फैलाने के असली क़सूरवार मजीठिया हैं। जो यहां सिंथेटिक ड्रग्स लाए और ड्रग माफ़िया को मदद दी। पूरे मामले को कांग्रेस भी चुनावी मुद्दा बना रही है। मजीठिया पर दर्ज़ केस को कांग्रेस अपनी सरकार की उपलब्धि के तौर पर भुना रही है।

Leave a Comment