बिक्रम मजीठिया को भेजा जेल: ज़मानत पर सुनवाई होगी कल

The News Air– ड्रग्स केस में फंसे दिग्गज अकाली नेता बिक्रम मजीठिया को 8 मार्च तक जेल भेज दिया गया है। उन्होंने सुबह ही मोहाली कोर्ट में सरेंडर किया था। इसके बाद कोर्ट परिसर में ही पंजाब पुलिस की SIT ने AIG बलराज सिंह की अगुवाई में उनसे क़रीब डेढ़ घंटे की पूछताछ की। अब उनकी रेगुलर बेल पर कल सुनवाई होगी। मजीठिया को जेल भेजने के बाद डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा ने ‘भगवान के घर देर है, अंधेर नहीं’ की लाइन लिखी।

मजीठिया को सुप्रीम कोर्ट ने 23 फरवरी तक गिरफ़्तारी से राहत दी थी। जिसके बाद उनके कल सरेंडर करने की चर्चा थी लेकिन वकीलों से बातचीत के बाद वह आज सरेंडर करने आए हैं। इससे पहले कल मोहाली में पंजाब पुलिस की एसआईटी पूरा दिन इंतज़ार करती रही लेकिन मजीठिया सरेंडर करने नहीं आए।
मजीठिया के ख़िलाफ़ मोहाली की क्राइम ब्रांच में इंटरनेशनल ड्रग तस्करों के साथ साठगांठ के आरोप में केस दर्ज़ है। हालांकि अकाली दल का कहना है कि पंजाब की कांग्रेस सरकार ने राजनीतिक बदलाखोरी की वजह से यह केस दर्ज़ किया।

ट्रायल और हाईकोर्ट ने खारिज कर दी थी ज़मानत

बिक्रम मजीठिया के ख़िलाफ़ केस दर्ज़ होने के बाद उन्होंने मोहाली कोर्ट में अग्रिम ज़मानत लगाई थी, हालांकि यह खारिज हो गई। इसके बाद वह पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट चले गए। वहाँ कुछ दिन की अंतरिम राहत के बाद उनकी याचिका खारिज हो गई। फिर वह सुप्रीम कोर्ट गए। सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा चुनाव को देखते हुए 23 फरवरी तक उनकी गिरफ़्तारी पर रोक लगा दी थी।

सिद्धू के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ रहे बिक्रम मजीठिया

माझा के अकाली दिग्गज बिक्रम मजीठिया इस बार पंजाब कांग्रेस चीफ़ नवजोत सिद्धू के ख़िलाफ़ अमृतसर ईस्ट से चुनाव लड़ रहे हैं। पहले वह मजीठा सीट से उम्मीदवार थे। सिद्धू ने उन्हें अमृतसर ईस्ट से लड़ने को कहा तो वह वहाँ से भी चुनाव मैदान में आ गए। इसके बाद सिद्धू चैलेंज किया कि वह मजीठा सीट छोड़ें और एक ही सीट से चुनाव लड़े। मजीठिया ने वह शर्त भी क़बूल कर ली और मजीठा से पत्नी गनीव कौर को उम्मीदवार बना सिर्फ़ अमृतसर ईस्ट से चुनाव लड़ा है।

Leave a Comment