शर्म से झुका सिर… दिल्‍ली में हैवानियत की कहानी पढ़ एलजी वीके सक्सेना भी..

नई दिल्ली (The News Air): कंझावला इलाके में 20 साल की लड़की के साथ बर्बरता से उपराज्‍यपाल वीके सक्‍सेना हैरान हैं। एलजी ने ट्वीट किया, ‘कंझावला-सुल्‍तानपुरी में आज सुबह हुए अमानवीय अपराध से मेरा सिर शर्म से झुक गया है। मैं ऐसा करने वालों की हैवानियत भरी असंवेदनहीनता से हैरान हूं।’ दिल्‍ली पुलिस के अनुसार, न्यू ईयर की पार्टी मनाकर कार से लौट रहे पांच युवकों ने स्कूटी से जा रही लड़की को टक्कर मारी और उसे कई किलोमीटर तक घसीटते हुए ले गए। पुलिस का दावा है कि लड़की कार में फंस गई और उसकी सारी हड्डियां टूट गईं। लड़की के दोनों पैर, सिर और शरीर के अन्य हिस्से भी बुरी तरह कुचल गए। रोहिणी जिले के कंझावला थाने में किसी ने फोन कर सूचना दी थी कि कुतुबगढ़ की ओर जा रही बलेनो में एक शव लटक रहा है। उसने कार का नंबर भी बताया। पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। कार भी बरामद कर ली गई है।


नए साल की सुबह दिल्ली के आउटर डिस्ट्रिक्ट में एक लड़की का नग्न हालत में शव मिला। रविवार तड़के 4 बजे कंझावला इलाके में 20 साल की लड़की का यह शव मिला। उस पर चोट के ताजा निशान थे। शव देखकर हर किसी ने ‘अनहोनी’ की आशंका जताई, लेकिन पुलिस ने हादसा बताया और सुल्तानपुरी थाने में लापरवाही से मौत का केस दर्ज किया।
‘संदिग्ध हालात में लड़की का शव मिलने का मामला ख़ौफ़नाक ‘
इस मामले में दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को समन भेजा है। आयोग की चेयरपर्सन स्वाति मालीवाल ने कहा कि बताया जा रहा है कि नए साल की रात कुछ लड़कों ने नशे की हालत में गाड़ी से लड़की के स्कूटर में टक्कर मारी और उसे कई किलोमीटर तक घसीटा। शव पर कोई कपड़े नहीं थे। मालीवाल ने कहा, यह मामला बेहद भयानक है। इसलिए दिल्ली पुलिस को हाज़िरी समन जारी कर रही हूं। पूरा सच सामने आना चाहिए।

आउटर डिस्ट्रिक्ट के डीसीपी, दिल्ली पुलिस को भेजे नोटिस में दिल्ली महिला आयोग की चेयरपर्सन ने एफआईआर की कॉपी, गिरफ्तार किए गए लोगों की जानकारी और लड़की की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी मांगी है। नोटिस में पूछा गया है कि क्या यौन उत्पीड़न का पता लगाने के लिए कोई जांच की गई। आयोग ने घटना वाली जगह के आसपास के चेकपोस्ट की संख्या के बारे में भी जानकारी मांगी है और पूछा है कि क्या गिरफ्तार किए गए आरोपियों का एल्कोहल इनटेक टेस्ट किया गया। 5 जनवरी, दिन में 2 बजे पुलिस अधिकारी को आयोग ने बुलाया है। आयोग ने पूछा है कि लड़की को इतने किलोमीटर घसीटने के बावजूद किसी पीसीआर/पुलिसकर्मी ने कार को क्यों नहीं रोका। क्या 112 में कोई शिकायत की गई? दिल्ली पुलिस से एक्शन टेकन रिपोर्ट की कॉपी भी मांगी है।

Leave a Comment