गुरमीत राम रहीम इतने दिनों के लिए आएगा जेल से बाहर, प्रदेश की 69 सीटों पर होगा असर

The News Air-दुष्कर्म और हत्या के केस में सज़ा काट रहे डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पैरोल पर जेल से रिहा किया जाएगा। गुरमीत हरियाणा की रोहतक जेल में बंद है। उसे पंजाब में चुनाव से 13 दिन पहले जेल से छोड़ा जा रहा है। पंजाब के 23 ज़िलों में 300 बड़े डेरे हैं, जिनका सीधा दख़ल सूबे की राजनीति में है। ये डेरे पंजाब के माझा, मालवा और दोआबा क्षेत्र में अपना वर्चस्व रखते हैं।

डेरा सच्चा सौदा हरियाणा के सिरसा ज़िले में स्थित है। इसका पंजाब के मालवा रीजन की क़रीब 69 सीटों पर प्रभाव है। गुरमीत राम रहीम की रिहाई के मद्देनज़र सुनारिया जेल के बाहर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। सिरसा डेरा के प्रमुख राम रहीम का 21 दिन की फर्लो (छुट्टी) का आवेदन हरियाणा जेल विभाग मंज़ूर कर चुका है। रोहतक के कमिश्नर के दस्तख्त के बाद उसे जेल से बाहर लाया जाएगा।

राम रहीम को लेने सिरसा डेरे से निकला क़ाफिला

राम रहीम को पैराेल मिलने की जानकारी सिरसा डेरा को भी मिल गई है। वहाँ मौजूद श्रद्धालु ख़ुशियाँ मनाने लगे हैं। वहाँ से एक क़ाफिला भी राम रहीम को लेने के लिए रोहतक की सुनारिया जेल के लिए रवाना किया गया है। राम रहीम दो साध्वियों के रेप और दो हत्याओं के आरोप में सुनारियां जेल में सज़ा काट रहा है।

दो दिन पहले मंत्री ने कहा था- पैरोल हर कैदी का हक़

हरियाणा के जेल मंत्री रणजीत सिंह चौटाला ने दो दिन पहले बयान दिया था कि पैरोल लेना हर कैदी का अधिकार है। इसके बाद राम रहीम को 21 दिन की पैरोल मिल गई। उसे आज सुबह ही रोहतक के सुनारिया जेल से निकाला है। पैरोल के दौरान एक कड़ी शर्त यह रखी गई कि वह 21 के 21 दिन पुलिस की निगरानी में रहेगा। उसका अधिकांश समय डेरे में ही व्यतीत होगा।

8 महीने में दूसरी बार जेल से बाहर आएगा गुरमीत

साध्वियों के यौन शोषण मामले में सज़ा काट रहे डेरा प्रमुख ने 17 मई 2021को मां की बीमारी का हवाला देकर 21 दिन की इमरजेंसी पैरोल की मांग की थी। इस आवेदन पर उसे 21 मई 2021 को 12 घंटे की पैरोल मिली थी। इस तरह पिछले 8 महीने में राम रहीम को दूसरी बार जेल से रिहाई मिल रही है।

डेरे की राजनीतिक विंग 2006-07 में बनी

डेरे की स्थापना 1948 में शाह मस्ताना ने की थी। 1960 में शाह सतनाम डेरे की गद्दी पर बैठे। इसके बाद 1990 में 23 साल की उम्र में राम रहीम डेरे की गद्दी पर बैठा था। साल 2006-07 में डेरा सच्चा सौदा ने राजनीतिक विंग बनाई। इसमें डेरा प्रमुख के विश्वासपात्र लोग शामिल हैं। साथ ही हर राज्य की 45 सदस्यीय कमेटी भी गठित की।

इन चुनावों में रही डेरे की भागीदारी

साल 2007, 2012, 2017 के पंजाब विधानसभा चुनावों में डेरे ने पूरी तरह से भागीदारी की। 2014 के लोकसभा चुनाव और हरियाणा विधानसभा चुनाव में डेरा प्रमुख ने PM के स्वच्छ भारत मिशन की सराहना करते हुए समर्थन दिया। सभी नेता वोटों की राजनीति के लिए डेरे में माथा टेकने पहुंचते हैं। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह भी विधानसभा चुनावों से पहले पत्नी और परिवार के साथ डेरे में पहुंच चुके हैं। बादल परिवार भी डेरे में हाज़िरी लगा चुका है।

Leave a Comment