कर्मचारियों को हफ़्ते में मिलेगी तीन दिन छुट्टी! सैलरी से लेकर PF तक के बदलेंगे नियम

नई दिल्ली, 30 अगस्त (The News Air)
New Wage Code India Updates: केंद्र सरकार ने नया वेज कोड बिल की तैयारी लगभग पूरी कर ली है. बताया जा रहा है कि अक्टूबर में इसे लागू किया जा सकता है. पहले इस बिल को 1 अप्रैल से लागू किया जाना था, लेकिन राज्य सरकारों की तरफ़ से ड्रॉफ्ट रूल्स नहीं मिलने के कारण ये नियम लागू नहीं किया गया. इस नए नियम के तहत कर्मचारियों की छुट्टियां, सैलरी और काम करने के घंटे को लेकर काफ़ी सारे बदलाव किए जाएंगे. यानी इस नए बिल में कर्मचारियों के लिए बहुत कुछ है. आइए जानते हैं क्या है इस नए बिल में.
बढ़ेंगे काम के घंटे और वीकली ऑफ़-नए वेज कोड (New Wage Code Working Hours) के तहत कर्मचारियों के काम के घंटे 9 से बढ़कर 12 हो जाएंगे. श्रम एवं रोज़गार मंत्रालय के अनुसार, हफ़्ते में 48 घंटे कामकाज का नियम ही लागू रहेगा. कुछ यूनियन ने 12 घंटे काम और 3 दिन की छुट्टी के नियम पर सवाल उठाया था. सरकार ने कहा कि हफ़्ते में 48 घंटे काम का ही नियम रहेगा, अगर कोई दिन में 8 घंटे काम करता है तो उसे हफ़्ते में 6 दिन काम करना होगा और एक दिन की छुट्टी मिलेगी. अगर कोई दिन में 12 घंटे काम करता है तो बाकी 3 दिन उस कर्मचारी को छुट्टी देनी होगी.
नए वेज कोड में बहुत कुछ है ख़ास-नए वेज कोड (New Wage Code Benefits) में कई ऐसे प्रावधान दिए गए हैं, जिससे ऑफ़िस में काम करने वाले सैलरीड क्लास, मिलों और फैक्ट्रियों में काम करने वाले मज़दूरों तक पर असर पड़ेगा. कर्मचारियों की सैलरी से लेकर उनकी छुट्टियां और काम के घंटे भी बदल जाएंगे. आइये जानते हैं नए वेज कोड के कुछ प्रावधान जिनके लागू होने के बाद आपकी ज़िंदगी में काफ़ी बदलाव आएगा.
सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव- नए वेज कोड के तहत कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर (New Wage Code Salary Structure) में भी बदलाव किए जाएंगे. Take Home Salary में कमी की जा सकती है. क्योंकि वेज कोड एक्ट (Wage Code Act), 2019 के मुताबिक़, किसी कर्मचारी की बेसिक सैलरी कंपनी की लागत (Cost To Company-CTC) के 50 परसेंट से कम नहीं हो सकती है. अभी कई कंपनियां बेसिक सैलरी को काफ़ी कम करके ऊपर से भत्ते ज़्यादा देती हैं.
साल की छुट्टियों में बढ़ोतरी-कर्मचारियों की अर्जित अवकाश (Earned Leave) यानी छुट्टियां 240 से बढ़कर 300 हो सकती हैं. लेबर कोड (New Wage Code Leave) के नियमों में बदलाव को लेकर श्रम मंत्रालय, लेबर यूनियन और उद्योगजगत के प्रतिनिधियों के बीच कई प्रावधानों पर चर्चा हुई थी. जिसमें कर्मचारियों की Earned Leave 240 से बढ़ाकर 300 किये जाने की मांग की गई थी.
वर्कर्स के लिए मिनिमम वेज लागू होगा– पहली बार देश के सभी तरह के वर्कर्स को मिनिमम वेज यानी न्यूनतम सैलरी मिलेगी. प्रवासी मज़दूरों के लिए नई स्कीम्स लाई जा रही हैं. इसके अलावा सभी मज़दूरों की सामाजिक सुरक्षा के लिए प्रॉविडेंट फ़ंड की सुविधा दी जाएगी. संगठित और असंगठित सेक्टर के सभी कर्मचारियों को ESI का कवरेज भी मिलेगा. इसके तहत महिलाओं को सभी तरह के कारोबारों में काम करने की इजाज़त होगी, उन्हें नाइट शिफ़्ट करने की भी मंजूरी मिलेगी.
PF और ग्रेच्युटी बढ़ेगी– इसके तहत Basic Pay बढ़ने से कर्मचारियों का PF ज़्यादा कटेगा यानी आपका भविष्य पहले से ज़्यादा सुरक्षित हो जाएगा. पीएफ के साथ-साथ ग्रेच्युटी (Monthly Gratuity) में भी योगदान बढ़ जाएगा. यानी टेक होम सैलरी जरुर घटेगी लेकिन कर्मचारी को रिटायरमेंट पर ज़्यादा रक़म मिलेगी. असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए भी नया वेज कोड लागू होगा. सैलरी और बोनस से जुड़े नियम बदलेंगे और हर इंडस्ट्री और सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों की सैलरी में समानता आएगी.

Leave a Comment