हिस्ट्रीशीटर की पुलिस रिमांड के दौरान तबीयत बिगड़ी: रणदीप के परिजनों ने कहा…

The News Air – पानीपत हरियाणा के पानीपत जिले के गांव कवि का रहने वाला हिस्ट्रीशीटर रणदीप 6 दिन के पानीपत पुलिस रिमांड पर है। आज रिमांड के तीसरे दिन रणदीप की अचानक तबीयत खराब हो गई है। रणदीप की हालत खराब होते देख पुलिस उसे तुरंत टोल प्लाजा के नजदीक एक निजी अस्पताल ले गई। जहां वह उपचाराधीन है।

रणदीप के परिजनों का कहना है कि पुलिस पिटाई के कारण उसे हार्ट अटैक आया है। मगर, पुलिस का कहना है कि रणदीप का बीपी कम-ज्यादा हुआ है। वहीं, अभी डॉक्टरों की टीम रणदीप के इलाज में जुटी हुई है। अभी डॉक्टरों की तरफ से इस बारे में बयान आना बाकी है। डॉक्टरों की रिपोर्ट के आधार पर रणदीप की तबीयत खराब होने के असल कारणों का पता लग पाएगा।

वहीं, मामले की गंभीरता को देखते हुए निजी अस्पताल में भारी पुलिस दलबल तैनात कर दिया गया है। पुलिस उच्च अधिकारी लगातार मामले की रिपोर्ट तलब कर रहे हैं। बता दें कि रणदीप को उसके 9 अन्य साथियों के साथ पुराना औद्योगिक थाना पुलिस ने 15 मार्च की रात को अपहरण, लूट, मारपीट समेत कई संगीन आरोपों में गिरफ्तार किया था। 16 मार्च को सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से 7 आरोपियों को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया था।

पुलिस ने इन दस आरोपियों को किया था गिरफ्तार।

पुलिस ने इन दस आरोपियों को किया था गिरफ्तार।

ये दस हुए थे गिरफ्तार

असंध रोड पर शनि मंदिर के पास से युवक का अपहरण कर मारपीट व लूट करने की वारदात को अंजाम देने वाले 10 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पुलिस ने रणदीप पुत्र प्रेम सिंह निवासी कवि, विक्रम पुत्र रूप सिंह निवासी औसर, जगमाल पुत्र रामजवारी निवासी छिछड़ाना, प्रदीप पुत्र महिपाल निवासी न्यू दिवान नगर, सुंदर पुत्र प्रेम सिंह निवासी कवि, बलजीत पुत्र दयासिंह निवासी आठ मरला, सुनील पुत्र धर्मबीर निवासी बिजावा, अशोक पुत्र सत्यवान निवासी नौहरा, विनोद पुत्र रमेश निवासी बतरा कॉलोनी व राहुल पुत्र बेद सिंह निवासी कच्चा कैंप को गिरफ्तार किया था।

आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयोग किया एक अवैध पिस्टल, एक लाइसेंसी रिवॉल्वर, आठ जिंदा रौद, पाच गंडासी व एक डंडा बरामद हुए थे। 16 मार्च को आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया था। जहां से आरोपी अशोक, विनोद व राहुल को न्यायिक हिरासत जेल भेजा गया।

वहीं, गहनता से पूछताछ करने, वारदात में प्रयोग गाड़ी, अन्य हथियार व वारदात में शामिल फरार अन्य आरोपियों के ठिकानों का पता लगा काबू करने के लिए आरोपी रणदीप, विक्रम, जगमाल, प्रदीप, सुंदर, बलजीत व सुनील को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया। पुलिस जांच में सामने आया था कि आरोपी रणदीप व सुंदर सगे भाई हैं। दोनों भाइयों का पहले भी अपराधिक रिकॉर्ड है। आरोपियों के खिलाफ पहले भी विभिन्न अपराधिक वारदातों के मुकदमे दर्ज है।

महिला के घर का पता लगाने के लिए की थी वारदात

उल्लेखनीय है कि पुलिस दी शिकायत में 15 मार्च को बलवान पुत्र हरपाल निवासी खुखराना ने बताया था वह पानीपत थर्मल में प्राइवेट नौकरी करता है। वह उक्त दोपहर करीब साढ़े 12 बजे असंध रोड स्थित शनि मंदिर के पास खड़ा था। इसी दौरान वहां करीब 6 गाड़ी सवार करीब 25 युवक आ धमके। जिनमें से वह बलजीत पुत्र दयासिंह, दयासिंह पुत्र चतर सिंह निवासी आठ मरला, अभिषेक पुत्र राजबीर निवासी खुखराना व जगमाल निवासी छिछड़ाना को पहचानता है।

सभी ने उसके साथ मारपीट कर उसके मुंह पर कबड़ा बांधकर गाड़ी में डाल लिया और मारते पीटते हुए माडल टाउन में रणदीप की कोठी पर ले गए। रणदीप ने असला लिया हुआ था और उसकी जेब से 10 हजार रुपए निकाल लिए। रणदीप ने अपने सामने उसकी सभी आरोपियों से पिटाई करवाई। बलजीत ने रणदीप से पिस्तौल लेकर उसके मुंह में डालकर मारने की कोशिश की।

रणदीप ने कहा इसको ऐसे मत मारो, बोरी में डालकर नहर में फेंक देते हैं। आरोपी उससे महिला मंजू (काल्पनिक नाम) का पता पूछने लगे। इसके बाद आरोपी उसको गाड़ी में डालकर नहर की तरफ चल पड़े। उसने जान बचाने के लिए आरोपियों को कहा की वह महिला के पास ले चलेगा, उसकी जान बख्श दो। वह मौका मिलते ही आरोपियों की कैद से निकलकर भागने में कामयाब हो गया था।

Leave a Comment