Devendra Fadnavis: ‘जूनियर’ पद स्वीकार करने वाले महाराष्ट्र के 5वें पूर्व मुख्यमंत्री हैं …

देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) गुरुवार को महाराष्ट्र के ऐसे पांचवें नेता हो गए, जिन्होंने मुख्यमंत्री रहने के बाद किसी सरकार में ‘जूनियर’ पद स्वीकार किया है। फडणवीस ने गुरुवार को यह चौंका देने वाला ऐलान किया कि शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे राज्य में उद्धव ठाकरे सरकार गिरने के बाद नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे और वह खुद (फडणवीस) मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं होंगे।

हालांकि, बाद में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि फडणवीस इस सरकार का हिस्सा होंगे। इसके बाद फडणवीस ने उप मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। हर किसी को उम्मीद थी कि शिंदे के नेतृत्व वाले समूह के समर्थन से फडणवीस तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे।

फडणवीस 2014 से 2019 तक पूरे पांच साल के कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री रहे थे। वहीं, 2019 के विधानसभा चुनावों के बाद, जब शिवसेना का बीजेपी से गठजोड़ टूट गया, फडणवीस अजीत पवार के नेतृत्व वाले एनसीपी विधायकों के एक समूह के समर्थन से फिर से मुख्यमंत्री बने। हालांकि, आवश्यक संख्या बल नहीं जुटा पाने के चलते तीन दिनों के अंदर ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ गया।

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नूपुर शर्मा को टीवी पर आकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए, उदयपुर हत्याकांड के लिए ठहराया जिम्मेदार

एक पूर्व मुख्यमंत्री का किसी सरकार में जूनियर पद स्वीकार करना शायद ही देखने को मिलता है। लेकिन महाराष्ट्र में पूर्व में ऐसी स्थिति देखने को मिली है। कांग्रेस नेता शंकरराव चव्हाण 1975 में मुख्यमंत्री बने थे और वसंतदादा पाटिल द्वारा उनकी जगह लेने से पहले वह दो साल पद पर रहे थे। 1978 में शरद पवार (पाटिल कैबिनेट के मंत्री) ने सरकार गिरा दी और मुख्यमंत्री बन गए। पवार नीत प्रगतिशील लोकतांत्रिक मोर्चा सरकार में चव्हाण वित्त मंत्री बने।

शिवाजीराव पाटिल नीलांगकर जून 1985 से मार्च 1986 तक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे थे। कई वर्षों बाद वह 2004 में सुशील कुमार शिंदे सरकार में राजस्व मंत्री रहे। नारायण राणे शिवसेना में रहने के दौरान 1999 में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने थे और एक साल से भी कम समय तक पद पर रहे थे। बाद में, वह शिवसेना छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए।

वह विलासराव देशमुख सरकार में राजस्व मंत्री बने। इसके अलावा कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण 2008 और 2010 के बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे। बाद में, 2019 में वह उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री बने।

Leave a Comment