डेरा सच्चा सौदा किसी एक का समर्थक नहीं:सभी 117 विधानसभा सीटों के उम्मीदवारों को..

The News Air- डेरा सच्चा सौदा सिरसा की राजनीतिक विंग पंजाब विधानसभा चुनाव में किसी भी एक पार्टी का समर्थन नहीं कर रही। डेरे की राजनीतिक विंग ने शुक्रवार को बठिंडा, फिरोजपुर, बरगाड़ी, राजपुरा, सलाबतपुरा, मलोट अलग-अलग जगहों पर प्रमुख पदाधिकारियों की मीटिंग बुलाकर उन्हें संदेश दे दिया है।

डेरा सच्चा सौदा सभी पार्टियों को साथ लेकर चल रहा है। डेरा प्रेमियों के पास उम्मीदवार के अनुसार वोट देने का मैसेज रविवार अल सुबह वोटिंग से पहले पहुंचेगा। हालांकि डेरा प्रेमी बेअदबी कांड और जेल में बंद डेरा प्रमुख से पूछताछ के चलते ख़ासे ख़फ़ा हैं, लेकिन वे वोट जरुर डालेंगे।

पूर्व सीएम की डेरा के पारिवारिक सदस्यों से मुलाक़ात

पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल की डेरा प्रमुख के परिवार से 15 फरवरी को मुलाक़ात हुई थी। पूर्व सीएम ने अपनी जीत के लिए डेरा मुखी के परिवार से सहयोग मांगा है। पूर्व सीएम अबकी बार अपनी सीट पर जीत को लेकर आश्वासित नहीं है।

तलवंडी साबो में जस्सी का खुलकर प्रचार

डेरे की राजनीतिक विंग ने तलवंडी साबो सीट से खड़े डेरा प्रमुख के समधी हरमिन्दर जस्सी को समर्थन दिया है। जस्सी डेरा प्रेमी भी हैं और लगातार तीन चुनाव हार चुके हैं। इसलिए अबकी बार राजनीतिक विंग उसकी जीत को सुनिश्चित करने के लिए पूरा ज़ोर लगा रही है। जस्सी कांग्रेस में थे, परंतु टिकट न मिलने से तलवंडी साबो से आज़ाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं।

नोटा का भी खुलकर प्रचार

सभी राजनीतिक पार्टियों से नाराज़ डेरे का एक धड़ा पंजाब में नोटा की मुहिम भी चला रहा है। इस मुहिम के तहत वह डेरा प्रेमियों से पंजाब के कई ज़िलों में खुलकर नोटा को वोट देने की अपील कर चुके हैं। डेरा प्रेमियों का एक धड़ा सोशल मीडिया पर फेथ वर्सेज वर्डिक्ट पेज पर नोटा मुहिम के तहत एक्टिव है।

इन ज़िलों की सीटों पर प्रभाव

मालवा में आने वाले फिरोजपुर, मोगा, फाजिल्का, अबोहर, फरीदकोट, मुक्तसर साहिब बठिंडा, पटियाला, लुधियाना, मानसा, संगरूर, बरनाला, मलेरकोटला, फतेहगढ़ साहिब ज़िले आते हैं। मालवा बेल्ट में 69 विधानसभा क्षेत्र ऐसे है, जहां डेरा का प्रभाव माना जाता था।

Leave a Comment