दीप सिद्धू की मौत-हत्या या हादसा?:पंजाब में चर्चाओं के बीच उठे सवाल

The News Air-हरियाणा के सोनीपत में हुए हादसे में पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू की मौत पर सवाल उठने लगे हैं। इस मामले में पंजाब में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है और सवाल उठ रहा है कि दीप सिद्धू की हादसे में मौत हुई है या फिर साजिश के तहत हत्या।

सिद्धू के शव का बुधवार को पोस्टमार्टम हो गया और शव परिजनों को सौंप दिया गया। उनका अंतिम संस्कार पंजाब के लुधियाना में होगा। सोनीपत सिविल अस्पताल में तीन डॉक्टरों के पैनल ने उनका पोस्टमार्टम किया। पुलिस ने पोस्टमार्टम की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई है। इस दौरान डीएसपी विपिन कादियान दल-बल के साथ पोस्टमार्टम हाउस के बाहर मौजूद रहे। यही नहीं दीप सिद्धू के परिजन और समर्थक भी पोस्टमार्टम हाउस के बाहर जुटे रहे। दीप सिद्धू इन दिनों अमरगढ़ से शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के प्रधान सिमरनजीत सिंह मान का भी प्रचार कर रहे थे।

पुष्पवर्षा करते हुए दीप सिद्धू के पार्थिव शरीर को ले जाते परिजन और समर्थक।
पुष्पवर्षा करते हुए दीप सिद्धू के पार्थिव शरीर को ले जाते परिजन और समर्थक।

सिद्धू की SUV की दाहिनी साइड पूरी तरह डैमेज

मंगलवार को हादसे के समय दीप सिद्धू सफेद कलर की स्कॉर्पियो में सवार थे। अभी ऐसा माना जा रहा है कि उनकी SUV की स्पीड 100 से 120 किमी प्रति घंटा रही होगी। क्योंकि इस टक्कर में ट्रक का चैसिस पूरी तरह डैमेज है और उसके टायर फट गए हैं। वहीं, ट्रक धीमी रफ्तार से चल रहा था. दरअसल, ट्रक कोयले से लदा हुआ था और टोल के पास थोड़ी चढ़ाई है, जिस कारण माना जा रहा है कि ट्रक की रफ्तार 30 से 40 किमी प्रति घंटा होगी।

पहली नजर में ऐसा समझा जा रहा है कि दीप सिद्धू ने ट्रक के बाईं ओर से ओवरटेक करने की कोशिश की और इस चक्कर में टक्कर हो गई। टक्कर में सिद्धू की SUV दाहिने साइड से पूरी डैमेज हो गई, बाएं हिस्से को मामूली नुकसान हुआ है, दाहिने साइड ही ड्राइवर सीट पर सिद्धू बैठे थे।

पोस्टमार्टम हाउस के बाहर तैनात रहे पुलिसकर्मी।
पोस्टमार्टम हाउस के बाहर तैनात रहे पुलिसकर्मी।

पंजाब में चर्चा हत्या या हादसा?

दीप सिद्धू किसान आंदोलन के दौरान काफी सुर्खियों में रहे थे। पिछले साल 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा मामले में उन्हें आरोपी बनाया गया था। इस केस‌ में दीप सिद्धू की गिरफ्तारी भी हुई थी। वहीं अब जब डीएसपी से इस बारे में सवाल किया गया कि कहीं हत्या को हादसा तो नहीं दिखाया जा रहा तो उन्होंने कहा कि साजिश हो सकती है, लेकिन अभी हादसे का केस दर्ज किया गया है। हत्या के एंगल से भी केस की जांच की जाएगी।

दीप की गाड़ी से मिली शराब की बोतलें

पोस्टमार्टम के दौरान एसपी राहुल शर्मा हादसास्थल का निरीक्षण कर रहे थे। निरीक्षण के बाद एसपी ने बताया कि दीप सिद्धू की गाड़ी से शराब की बोतलें मिली हैं। उनके ब्लड सैंपल भी लिए हैं, ताकि जांच की जा सके कि हादसे के दौरान दीप सिद्धू ने शराब पी हुई थी या नहीं? विसरा रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। लापरवाही से ड्राइविंग का मामला लग रहा है। फिलहाल पुलिस ने दीप के भाई मनदीप सिंह सिद्धू की शिकायत पर अज्ञात ट्राला चालक और मालिक के खिलाफ केस दर्ज किया है। चालक फरार है, जिसकी तलाश में छापामारी की जा रही है।

विलाप करते हुए दीप सिद्धू के परिजन।
विलाप करते हुए दीप सिद्धू के परिजन।

रीना ने पुलिस को बताई हादसे की स्थिति

पुलिस को दी शिकायत में दीप सिद्धू के भाई मनदीप ने बताया कि हादसा कुंडली-मानेसर-पलवल (KMP)​​​​​​ एक्सप्रेस-वे पर पिपली टोल नाके के पास मंगलवार रात को हुआ। दीप सिद्धू अपनी अमेरिकी महिला मित्र रीना रॉय के साथ दिल्ली से पंजाब लौट रहे थे। परिवार वाले उनका इंतजार कर रहे थे कि पिता के फोन पर एक अनजान नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले ने बताया कि दीप सिद्धू का एक्सीडेंट हो गया है। वह और एक महिला गंभीर रूप से घायल हैं। फोन करने वाले ने हादसे में घायल रीना से बात कराई।

रीना ने बताया कि स्कॉर्पियो पीछे से ट्राले में घुस गई है। दीप बेहोश है और उसे काफी चोट लगी हैं। उन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा है। एक ट्राला आगे चल रहा था, लेकिन उसने अचानक ब्रेक लगा दिए। अचानक ब्रेक लगने से दीप ने भी ब्रेक लगाए, लेकिन इतनी देर में स्कॉर्पियो ट्राले में घुस गई। रीना ने बताया कि उसे और दीप को सोनीपत के खरखौदा अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद पता चला कि दीप को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया है। वहीं रीना उपचाराधीन है। पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर रीना के बयान भी दर्ज किए।

पोस्टमार्टम हाउस के बाहर जुटे दीप सिद्धू के समर्थक।
पोस्टमार्टम हाउस के बाहर जुटे दीप सिद्धू के समर्थक।

मॉडलिंग से की थी कैरियर की शुरुआत

पंजाब के मुक्तसर जिले में अप्रैल 1984 में जन्मे दीप सिद्धू अपने करियर की शुरुआत मॉडलिंग से की थी। दीप ने लॉ की पढ़ाई की। वह किंगफिशर मॉडल हंट के विजेता रहे। मिस्टर इंडिया कॉन्टेस्ट में मिस्टर पर्सनैलिटी का खिताब भी जीता। साल 2015 में उसकी पहली पंजाबी फिल्म ‘रमता जोगी’ रिलीज हुई थी। हालांकि दीप 2018 में आई फिल्म जोरा दास नंबरिया से मशहूर हुए, जिसमें उनका किरदार गैंगस्टर का था।

अंग्रेजी में बात करने से आए थे चर्चा में

दीप सिद्ध् को किसान संगठनों के प्रमुख नेताओं ने दिल्ली बॉर्डर पर बोलने का मौका नहीं दिया। दीप सिद्धू सोशल मीडिया के जरिए ही इन किसान नेताओं के फैसलों पर सवाल उठाते रहे हैं। किसान आंदोलन के दौरान वे चर्चा में तब आए, जब एक पुलिस अधिकारी से अंग्रेजी में बहस कर रहे थे। उनके इस वीडियो को बाद में फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने सोशल मीडिया पर शेयर किया और लिखा, ‘गरीब भूमिहीन किसान, जिनके लिए लोग रो रहे हैं।’ जिसके बाद उनकी खूब चर्चा हुई।

Leave a Comment