‘फर्ज मानवता के लिए ’ कोविड हेल्प केंद्र, मरीजों के लिए बन रहा है मददगार

चंडीगढ़, 12 मई

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने भारत के अन्य राज्यों की तरह पंजाब को भी बुरी तरह अपनी लपेट में ले लिया है जिस कारण रोजमर्रा के हजारों लोग अपने पारिवारिक सदस्यों की जान बचाने के लिए आक्सीजन और वेंटिलेटर बैडों, कोरोना किटों और दवाओं के लिए मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। अचानक देश में मरीजों की संख्या बढ़ने से मैडीकल एमरजैंसी का माहौल बना गया है जहाँ गंभीर मरीजों को सही समय पर सही जगह मिलना चुनौती साबित हो रहा है जिसके लिए हर मरीज चाहता कि कोई तो हो जो एक काल पर बिना किसी जान-पहचान से हां-समर्थकी जवाब देकर मदद करे।

पंजाब सरकार की तरफ से राज्य के लोगों को इलाज सेवाओं मुहैया करवाने के लिए हर संभव यत्न किये जा रहे हैं परन्तु लगातार कोरोना मरीजों का संख्या हजारों में बढ़ने के कारण जरूरतमंद लोगों को जरूरी चीजें तक पहुँच करने के लिए काफी समय लग रहा है। इस मुश्किल भरे समय में जरूरतमंद लोगों को तुरंत सुविधा पहुँचाने के मंतव्य के लिए ‘फर्ज मानवता के लिए’ हेल्प लाईन केंद्र कोरोना मरीजों के लिए मददगार साबित रहा है जो 24 घंटे 7 दिन लोगों की परेशानियाँ को सुन कर जिला स्तर पर अपने वालंटियरों के द्वारा सुविधाएं पहुँचा रहा है। इस हेल्प लाईन और बड़े अफसरों, नेताओं, मीडिया कर्मियों, व्यापारियों और हर वर्ग के लोगों की दर्जनों कालें आती हैं कि हमारे मरीज को वैंेटीलेटर की जरूरत है, आक्सीजन बैड चाहिए या कोई विशेष दवा चाहिए जिस पर हमारी तरफ से तुरंत कार्यवाही करके मदद पहुंचायी जाती है। उन्होंने बताया कि फर्ज मानवता के वांलटियरों की तरफ से कोविड मरीजों के परिवारों को राशन तक भी पहुँचाया जा रहा है।

फर्ज मानवता के लिए हेल्प लाईन के कोआरडीनेटर कंवरबीर सिंह रूबी ने बताया कि 3 मई से शुरू की है परन्तु कोविड मामलों की संख्या लगातार बढ़ने के कारण हर दिन चुनौती भरा साबित हुआ है। कोविड प्रभावित मरीजों के परिवारों को सुविधा प्रदान करने के लिए 3 नंबर 91151 -27102, 91151 -58100 जारी किये हैं। उन्होंने बताया कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान श्री सुनील जाखड़ जी ने यह विशेष हिदायत की है कि हर जरूरतमंद की पक्षपात रहित मदद की जाये और मरीजों से फीडबैक भी लाजिमी ली जाये।

कंवरबीर सिद्धू ने बताया कि एमरजैंसी में समय पर मदद पहुँचाने के लिए हम प्रशासन के साथ तालमेल करके वांलटियरों के द्वारा लोगों तक पहुँच करते हैं। उन्होंने बताया कि वैंटिलेटर और आक्सीजन बैडों के लिए कोविड केयर अस्पतालों के नोडल अफसरों के साथ संबंध बनाया गया है और हर जिले से तुरंत सहायता मिल रही है।

भावुक होते रूबी ने बताया कि कोविड मरीजों की मौत होने के बाद भी हमें लोग धन्यवाद करने के लिए फोन करते हैं कि चाहे बदकिस्मती से हमारे मरीज की जान चली गई है परन्तु आपने इस दुख की घड़ी में हमारा साथ दिया, हम आपके शुक्रगुजार हैं। अधिकतर मामलों में बुजुर्ग लोग हमारे वांलंटियरों को प्रोत्साहन देते कि आपने हमारी औलाद का फर्ज निभाया है, हम कैसे आपका कर्ज चुकाएं।

अमरप्रीत सिंह लाली ने बताया कि रोजमर्रा के दर्जनों की संख्या में समाज भलाई और धार्मिक जत्थेबंदियों के इलावा गैर-सरकारी संगठनों के प्रस्ताव आ रहे हैं कि वह कैसे हमारी मद कर सकते हैं जिससे हमारे वालंटियरों का उत्साह भी बढ़ रहा है और हमारा लोगों तक पहुँच करने का नैटवर्क भी।

Leave a Comment