पंजाब में तेज़ी से पैर पसारने लगा है कोरोना:पटियाला समेत 6 ज़िलों में फैलने लगी महामारी

The News Air – (चंडीगढ़) पंजाब में अब कोरोना की महामारी डराने लगी है। पटियाला के बाद पंजाब के 5 बड़े ज़िलों मोहाली, लुधियाना, जालंधर, पठानकोट और अमृतसर में महामारी फैलने लगी है। बुधवार को एक ही दिन में 4 मरीज़ों की मौत और 1,811 लोगों के चपेट में आने से राज्य में दहशत फैल गई है। पंजाब में हालात इस क़दर बिगड़ रहे हैं कि पॉजीटिविटी रेट भी 7.95% तक पहुंच चुका है। वहीं, पंजाब में अब ओमिक्रॉन के 7 केस हो गए हैं।

यह भी पढ़ें -देश में 6 गुना ज़्यादा रफतार से बढ़ रहा कोरोना वायरस, किस राज्य में ज़्यादा संक्रमित मिले; जानें

बड़े ज़िलों में बिगड़े हालात

पटियाला में 598 नए मरीज़ मिले। वहीं, चंडीगढ़ से सटे वीआईपी ज़िले मोहाली में 300, लुधियाना में 203, जालंधर में 183, पठानकोट में 163 और अमृतसर में 105 कोरोना मरीज़ मिले हैं। अमृतसर में DC गुरप्रीत सिंह खैहरा, निगम कमिश्नर संदीप ऋषि, पटियाला के DC संदीप हंस, ADC गुरप्रीत थिंद भी पॉजिटिव आए। इसके अलावा फतेहगढ़ साहिब, गुरदासपुर, होशियारपुर और बठिंडा में भी कोरोना गति पकड़ने लगा है।

कोरोना के बढ़ते देख लगाई गई यह पाबंदियां…

4 मरीज़ों की मौत, 69 मरीज़ लाइफ सेविंग सपोर्ट पर

पंजाब में चिंताजनक हालात यह हैं कि बुधवार को बरनाला, फरीदकोट, जालंधर और मुक्तसर में 1-1 मरीज़ ने कोरोना से दम तोड़ दिया। वहीं, एक मरीज़ को वेंटिलेटर पर शिफ़्ट कर दिया गया। पंजाब में कुल 69 मरीज़ लाइफ सेविंग सपोर्ट पर जा चुके हैं। जिनमें 53 ऑक्सीजन, 14 ICU और 2 वेंटिलेटर पर हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना ठीक करने वाली गोली हुई लॉन्च, जानिए कितने रुपए में और कैसे ख़रीद सकते हैं आप

पंजाब में ओमिक्रॉन के 7 मामले

पंजाब में अब कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के 7 मामले हो चुके हैं। इनमें जालंधर और पटियाला से 2-2 और मोगा, तरनतारन, नवांशहर से 1-1 ओमिक्रॉन केस आ चुका है। फतेहगढ़ साहिब से जुड़ा एक ओमिक्रॉन केस सामने आया था लेकिन उसके दिल्ली एयरपोर्ट से सीधे हिमाचल प्रदेश जाने की वजह से उसे पंजाब के खाते में नहीं जोड़ा गया है।

टेस्टिंग बढ़ाते ही बेनक़ाब होती महामारी

पंजाब सरकार ने चुनावी रैलियों की वजह से टेस्टिंग 30 हज़ार से घटाकर 10 हज़ार कर दिए थे। जिसकी वजह से महामारी का पता नहीं चल रहा था। कोरोना मरीज़ों के आंकड़े को 100 के आसपास रखा जा रहा था। हालांकि जब इसकी पोल खुली तो सरकार ने टेस्टिंग बढ़ा दी। बुधवार को भी टेस्टिंग का आंकड़ा 22 हज़ार के क़रीब पहुंचा तो कोरोना मरीज़ों के आंकड़े तेज़ी से बढ़ने लगे।

यह भी पढ़ें- कोरोना से अभी छुटकारा नहीं मिलेगा: जल्द नए ख़तरनाक वैरिएंट के आने की आशंका: WHO

Leave a Comment