चंडीगढ़ पुलिस ने पंजाब के पूर्व DGP के पीए को इस आरोप में किया गिरफ़्तार

The News Air- पंजाब के पूर्व डीजीपी सिद्धार्थ चटोपाध्याय के फ़र्ज़ी दस्तख्त करके पुलिसकर्मियों को फ़र्ज़ी प्रमोशन देने के मामले में एक और गिरफ़्तारी हुई है। मामले में पूर्व डीजीपी के पर्सनल असिस्टेंट (पीए) कुलविंदर सिंह को गिरफ़्तार किया गया है। उसे सेक्टर 3 थाना पुलिस शनिवार को कोर्ट में पेश करके रिमांड की मांग करेगी। इससे पहले 5 आरोपी पुलिस के रिमांड पर चल रहे हैं।

यह रोल निकल कर आ रहा सामने

सूत्रों की मानें तो इस फर्जीवाड़े के बारे में कुलविंदर को सारी जानकारी थी। उसने मामले में आरोपियों द्वारा अंजाम दी गई इस घपलेबाजी में मदद भी की थी। उसने मामले में अहम आरोपी हरविंदर सिंह का फ़र्ज़ी प्रमोशन आदेश जारी करने में उसकी सहायता की थी। हालांकि फर्जीवाड़े में उसकी भूमिका का खुलासा पुलिस रिमांड के दौरान होगा। फ़िलहाल पुलिस इस बारे में कुछ कहने को तैयार नहीं है। चटोपाध्याय से पूर्व डीजीपी रहे इक़बाल प्रीत सिंह सहोता के पीए के रुप में कुलविंदर ने अपनी सेवाएं दी थीं। इसके बाद जब चटोपाध्याय को डीजीपी बनाया गया तो वह उनके साथ अटैच हो गया था।

सीनियर पुलिस अफ़सर का भी रोल आ रहा सामने

हालांकि इस हाई प्रोफाइल मामले में पुलिस संवेदनशील जानकारी साँझा करने से बच रही है। फिर भी सूत्र बता रहे हैं कि मामले में एक सीनियर पुलिस अफ़सर का रोल भी सामने आ रहा है। वहीं मामले में आरोपी भी बड़े आईपीएस अफ़सर के साथ अपने अच्छे संबंधों की बात कह चुका है। ऐसे में और गिरफ़्तारियाँ होने की भी संभावना है। एसएसपी कुलदीप सिंह चहल भी मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए केस को बारीक़ी से देख रहे हैं।

कुछ और लाभार्थियों का नाम आ सकता है सामने

पुलिस सूत्रों की मानें तो शुक्रवार को एसआईटी ने आरोपी सतवंत के सेक्टर 51 स्थित घर से एक लैपटॉप भी बरामद किया है। वहीं कुछ डॉक्यूमेंट भी यहां से मिले हैं। आरोपियों ने रिमांड के दौरान काफ़ी कुछ बताया है, जिसे लेकर पुलिस के सामने कुछ और लाभार्थियों के नाम का भी खुलासा हो सकता है। मामले में एक एसआई हरविंद्र सिंह का नाम भी सामने आ रहा है। उसकी तलाश में पुलिस की छापामारी लगातार जारी है।

पांचों आरोपियों की भूमिका

मामले में अब तक पांच आरोपियों की गिरफ़्तारी हो चुकी है, जो इस फर्जीवाड़े में सक्रिय रूप से शामिल थे। इनमें फेज 6 का संदीप कुमार(55) है, जो पंजाब पुलिस की जीपी फ़ंड ब्रांच में सुपरिंटेंडेंट था। उसने सह आरोपी मनी कटोच के साथ मिल कर लैपटॉप से फ़र्ज़ी आदेश जारी किए थे। वह वर्ष 2010 में भ्रष्टाचार के एक मामले में आरोपी रह चुका है। एक आरोपी 52 वर्षीय बहादुर सिंह पुलिस विभाग में सुपरिंटेंडेंट था। उसने अपनी ब्रांच में डिस्पैच रजिस्टर में एंट्री की थी। तीसरा आरोपी मनी कटोच (33) फेज 6 मोहाली में रहता है और उसने सह आरोपी संदीप कुमार के साथ मिल कर उसके कहने पर फ़र्ज़ी ऑर्डर तैयार किए थे।

चौथा आरोपी पंजाब पुलिस से बर्खास्त सब इंस्पेक्टर मोहाली फेज 3बी2 निवासी सर्बजीत सिंह (47) है। उसने दावा किया है कि उसके पूर्व डीजीपी के साथ अच्छे संबंध थे। उसके ख़िलाफ़ ड्रग का एक केस दर्ज़ किया गया था। वहीं पांचवा आरोपी फाजिल्का का 48 वर्षीय सतवंत सिंह है, जो मोहाली में साइबर सेल में इंस्पेक्टर है। उसने सर्बजीत सिंह के साथ मिल कर संदीप कुमार और हवलदार मनी कटोच की मदद से फ़र्ज़ी ऑर्डर तैयार करवाए थे। पुलिस ने आरोपियों के कब्ज़े से फ़र्ज़ी ऑर्डर, संदीप कुमार का लैपटॉप, मोबाइल फ़ोन, डिस्पैच रजिस्टर और कार बरामद की थी।

पूर्व डीजीपी से अच्छे संबंधों की बात कह चुके हैं आरोपी

सतवंत सिंह और सर्बजीत सिंह ने पुलिस के सामने क़बूला था कि उनके पूर्व डीजीपी के साथ अच्छे संबंध थे। उन्होंने लाभार्थी पुलिसकर्मियों को आश्वासन दिया था कि उनके प्रमोशन ऑर्डर जारी करवा देगें। इसके बाद यह दोनों सर्बजीत के स्थान पर मीटिंग किया करते थे और जीपी ब्रांच के सुपरिंटेंडेंट संदीप कुमार के सहयोग से जाली ऑर्डर संदीप कुमार के लैपटॉप पर तैयार करवाए। हवलदार मनी कटोच ने यह टाइप किए थे। संदीप कुमार ने यह फ़र्ज़ी ऑर्डर सतवंत सिंह को दिए जो पूर्व डीजीपी के फ़र्ज़ी दस्तख्त करवाने में सफल रहा। इसके बाद संदीप कुमार ने बहादुर सिंह की मदद से डिस्पैच रजिस्टर में एंट्री करवाई और उसे सर्कुलेट कर दिया।

4 फ़र्ज़ी प्रमोशन ऑर्डर मिलने पर करवाया था केस दर्ज़

धोखाधडी़, जालसाजी और आपराधिक साज़िश रचने की धाराओं में सेक्टर 3 थाने में केस दर्ज़ किया गया था। मामले में शिकायतकर्ता पीपीएस अधिकारी विभोर कुमार हैं, जो पूर्व डीजीपी चटोपाध्याय के स्टाफ़ अफ़सर थे। इस पीपीएस अफ़सर को ही शुरुआत में यह 4 फ़र्ज़ी ऑर्डर मिले थे। इन ऑर्डर के आधार पर पंजाब पुलिस के कुछ कर्मियों को प्रमोशन/भर्ती दी गई थी। एसपी(सिटी) केतन बंसल की अगुवाई में चंडीगढ़ पुलिस ने एसआईटी गठित की थी।

Leave a Comment