मंत्रीमंडल ने शहीद भगत सिंह नगर ज़िले में ‘लैमरिन टेक स्किल्ज़ यूनिवर्सिटी’ की स्थापना को मंजूरी

चंडीगढ़, 17 सितंबर (The News Air)
राज्य में उद्योग आधारित अध्यापन, कौशल प्रशिक्षण और अनुसंधान को और मज़बूत करने के लिए मंत्रीमंडल ने ज़िला शहीद भगत सिंह नगर में बलाचौर के गाँव रैलमाजरा में निजी स्व-वित्तीय ‘लैमरिन टेक स्किल्ज़ यूनिवर्सिटी’ की स्थापना को मंजूरी दे दी है।
यह फ़ैसला मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की अध्यक्षता में हुई वर्चुअल मीटिंग दौरान लिया गया। यह कदम इलाके को कौशल और प्रौद्यौगिकी के केन्द्र के तौर पर विकसित होने में सहायक सिद्ध होगा। यह यूनिवर्सिटी इस अकादमिक सैशन से कार्यशील होगी।
मंत्रीमंडल ने ‘लैमरिन टेक स्किल्ज़़ यूनिवर्सिटी ऑर्डीनैंस-2021’ के मसौदे को भी मंज़ूरी दे दी है और कानूनी सलाहकार द्वारा तैयार किये अंतिम मसौदे को मंत्रीमंडल की मंजूरी लिए बिना मुख्यमंत्री को मंजूरी देने के लिए अधिकृत किया है।
इस स्व-वित्तीय ‘लैमरिन टेक स्किल्ज़़ यूनिवर्सिटी’ को ज़िले के गाँव रैलमाजरा में 81 एकड़ क्षेत्रफल में अनुसंधान एवं कौशल विकास यूनिवर्सिटी के तौर पर विकसित किया जायेगा और अगले पाँच साल 1630 करोड़ रुपए का निवेश किया जायेगा। इस संस्थान का कैंपस स्थापित होने पर सालाना 1000-1100 विद्यार्थी दाखि़ला लिया करेंगे।
यह यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों को विश्व स्तरीय उच्च शिक्षा मुहैया करवाने में सहायक होगी और उनको वैश्विक प्रतिस्पर्धा के समर्थ बनाया जायेगा। यह संस्था उद्योग और विदेशी यूनिवर्सिटियों की हिस्सेदारी के साथ उच्च शिक्षा के सभी विषयों में हर स्तर पर अध्यापन, शिक्षा, अनुसंधान और प्रशिक्षण मुहैया करवाई जायेगी जिनमें इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, व्यावसायिक शिक्षा और अन्य चिकित्सा प्रौद्यौगिकी कौशल में विशेष तौर पर तैयार किये कौशल विकास प्रोग्राम शामिल हैं। यह प्रोग्राम उद्योग और समाज के आम लोगों की ज़रूरतों के अनुसार तैयार किया जायेगा जो यूनिवर्सिटी और प्रांतीय और केंद्रीय कानून के अंतर्गत और सम्बन्धित रेगुलेटरी अथॉरिटी की मंजूरी अधीन करने योग्य हों।
पंजाब सरकार द्वारा यह अनिवार्य बनाया गया है कि स्थापित होने जा रही इस यूनिवर्सिटी में 15 फीसदी सीटें पंजाब के विद्यार्थियों के लिए विशेष रूप में आरक्षित होंगी और पूरी ट्यूशन फीस माफ /मुफ़्त का लाभ समाज के कमज़ोर वर्गों के कुल विद्यार्थियों में से कम-से-कम पाँच फीसदी को दिया जायेगा।
यह ज़िक्रयोग्य है कि रियात ऐजुकेशनल एजुकेशन एंड रिसर्च ट्रस्ट, गाँव रैलमाजरा, तहसील बलाचौर (ज़िला शहीद भगत सिंह नगर) से ‘लैमरिन टेक स्किल्ज़ यूनिवर्सिटी’ की स्थापना करने के लिए व्यापक प्रस्ताव मिलने के बाद उच्च शिक्षा विभाग ने 7 जुलाई, 2020 को पंजाब प्राईवेट पॉलिसी-2010 के उपबंधों के मुताबिक प्रस्ताव पर विचार करते हुए और अपेक्षित प्रक्रिया को मंजूर करते हुए सहमति पत्र जारी किया था।
प्लाक्षा यूनिवर्सिटी, पंजाब ऑर्डीनैंस-2021 फिर से लाने की मंजूरीः
मंत्रीमंडल ने आई.टी. सिटी मोहाली में स्व-वित्तीय ‘प्लाक्षा यूनिवर्सिटी’ की स्थापना के लिए प्लाक्षा यूनिवर्सिटी, पंजाब ऑर्डीनैंस-2021 को फिर से लाने की मंजूरी दे दी है।
पहला ऑर्डीनैंस 20 अगस्त, 2021 को जारी किया गया था परन्तु इसको पंजाब विधानसभा के पिछले सत्र में लाकर एक्ट में तबदील नहीं किया जा सका। कानूनी सलाहकार की सलाह के मुताबिक यह ऑर्डीनैंस विधानसभा का सत्र के पुनः सभा के बाद छह हफ़्तों की अवधि की समाप्ति के उपरांत खत्म हो जायेगा। इससे मंत्रीमंडल ने फिर से ऑर्म्डीनैंस लाने की मंजूरी दे दी है।
मंत्रीमंडल की मीटिंग दौरान तकनीकी शिक्षा मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी ने यूनिवर्सिटी में आरक्षण नीति को लागू करने के लिए कहा जबकि स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने मोहाली के निवासियों को अलग-अलग श्रेणियों के लिए रोज़गार में प्राथमिकता देने का सुझाव रखा। मुख्यमंत्री ने विभाग को यह मसले विचारने के लिए कहा।
नेशनल कॉलेज फॉर वूमन, माछीवाड़ा को सरकार ने अपने हाथों में लिया
इलाके के विद्यार्थियों को वाजिब दरों पर मानक शिक्षा प्रदान करने के लिए मंत्रीमंडल ने लुधियाना ज़िले की तहसील समराला में पड़ते नेशनल कॉलेज फॉर वूमन, माछीवाड़ा को सरकारी कॉलेज (महिला), माछीवाड़ा के तौर पर अपने हाथ में लेने की मंजूरी दे दी है। यह कदम राज्य की हर सब-डिवीज़न में एक सरकारी कॉलेज को यकीनी बनाने बारे राज्य सरकार के फ़ैसले के अनुरूप उठाया गया है। यह कदम राज्य के कुल दाखि़ला अनुपात को बढ़ाने में भी सहायक होगा।

Leave a Comment