BJP-कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़े, पुलिस ने भांजी लाठियां, 100 से ज़्यादा..

The News Air- सागर के खुरई में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच जमकर बवाल हुआ। जिसके बाद पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी। सेल्फी पाइंट में हुई तोड़फोड़ को लेकर ये पूरा विवाद हुआ। भाजपा कार्यकर्ता तोड़फोड़ के आरोपियों को गिरफ़्तार करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। तो वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता इस मामले में अपने कार्यकर्ताओं पर दर्ज़ मामले का विरोध कर रहे थे। तभी महाकाली टीनशेड में दोनों दलों के कार्यकर्ताओं का आमना सामना हो गया। पुलिस ने रोका तो धक्का-मुक्की शुरू हो गई। जमकर तोड़फोड़ हुई। हंगामा बढ़ता देख पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

यह भी पढ़ें- पंजाब भाजपा ने 27 उम्मीदवारों का किया ऐलान, इनकी कटी टिकट

इस पूरे बवाल में 100 से ज़्यादा प्रदर्शनकारी घायल हो गए। तहसील परिसर में लगाई गई टेंट की कुर्सियों में तोड़फोड़ की गई। युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष की गाड़ी का काँच भी फोड़ दिया गया। सूचना पर नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह मौक़े पर पहुंचे। उन्होंने दोषियों पर कार्रवाई की मांग की।

इसलिए हुआ बवाल

17 जनवरी को ऑफ़िसर कॉलोनी में SDM बंगले के पास स्थित सेल्फी पाइंट में तोड़फोड़ हुई थी। साथ ही सहोद्रा राय वार्ड में भी सेल्फी पाइंट को क्षतिग्रस्त किया गया था। पुलिस ने इस मामले में 8 लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज़ किया था। इसमें कुछ कांग्रेस कार्यकर्ता भी शामिल थे। इसे लेकर गुरुवार को भाजपा कार्यकर्ता खुरई क़िला मैदान में जमा हो गए। वो आरोपियों की गिरफ़्तारी की मांग को लेकर SDM को ज्ञापन देने जा रहे थे। वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता नगर पालिका परिसर में जमा हुए थे। वो मामले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर दर्ज़ केस का विरोध कर रहे थे।

महाकाली टीनशेड में हुआ टकराव

भाजपा कार्यकर्ता रैली के रूप में SDM कार्यालय की ओर जा रहे थे, तभी रास्ते में मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने महाकाली टीनशेड में भेज दिया, ताकि भाजपा कार्यकर्ता निकल जाए। लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओं ने टीनशेड में जाने की कोशिश की। इस दौरान जमकर धक्का-मुक्की और बवाल शुरू हो गया। इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा।

असामाजिक तत्वों ने किया कार्यकर्ताओं पर हमला

हंगामे की जानकारी पर नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह मौक़े पर पहुंच गए। उन्होंने ज़मीन पर बैठकर कार्यकर्ताओं से घटनाक्रम की जानकारी ली। मंत्री ने कहा कि नगर पालिका खुरई में विकास कार्य कर रही है। लेकिन विकास कार्यों से कुछ लोगों को तकलीफ़ है। पिछले दिनों सेल्फी पाइंट तोड़ दिया गया। नगर पालिक ने नामज़द कुछ लोगों की रिपोर्ट दर्ज़ कराई है। लेकिन उनकी गिरफ़्तारी नहीं हुई। मंत्री ने कहा कि गिरफ़्तारी की मांग को लेकर भाजपा के कार्यकर्ता SDM को ज्ञापन देने जा रहे थे। लेकिन SDM कार्यालय परिसर में पहले से जमा असामाजिक तत्वों ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला कर दिया। हमले में 100 से अधिक कार्यकर्ता घायल हुए हैं। घटनाक्रम की जानकारी मुख्यमंत्री को दी है। उन्होंने तुरंत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

कांग्रेस ने की न्यायिक जांच की मांग

इधर, पूर्व विधायक और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अरुणोदय चौबे ने कहा कि हम न्याय मांगने गए थे। 3 दिन पहले से कार्यक्रम तय था। प्रशासन को सूचना दी थी। महाकाली मंदिर पर जमा हुए थे। पुलिस अधिकारी ने हमें परिसर में बुला लिया। इतने में उनका जुलूस आ गया वहाँ। पुलिस ने हमें वहाँ से जाने का बोला तो हम जाने लगे। तभी पीछे-पीछे उनके कार्यकर्ता आ गए। वे बाहर के थे। उन्होंने आक्रमण कर दिया। माइक से बार-बार एनाउंसमेंट किया जा रहा था कि हम लोग आपस में न लड़े। अपना-अपना काम करें। घटनाक्रम के दौरान हुए लाठीचार्ज में 15 से अधिक कांग्रेस कार्यकर्ता घायल हुए हैं। मामले की न्यायिक जांच होना चाहिए।

Leave a Comment