Bhagwantmann: जैसे ही मान को सीएम चेहरा घोषित किया तो मान की मां और बहन हुए भावुक…

The News Air – आम आदमी पार्टी(आप) का पंजाब में मुख्यमंत्री चेहरा जानने को उत्सुक पंजाब के लोगों का इंतजार अब खत्म हो गया है। मंगलवार को आप सुप्रीमों अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के पंजाब प्रधान और संगरूर से सांसद भगवंत मान को आप का सीएम फेस घोषित किया और कहा कि पार्टी द्वारा जारी नंबर पर 93.3 प्रतिशत लोगों ने भगवंत मान को पसंद किया है और मात्र साढ़े तीन प्रतिशत लोगों ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिद्धू को चुना। मान को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि लोग हमसे पूछा करते थे कि पार्टी का दूल्हा कौन है। आज हमने पंजाब के सबसे लोकप्रिय व्यक्ति को दूल्हा बनाया है। हर पंजाबी को मेरे छोटे भाई भगवंत मान पर गर्व है।

केजरीवाल ने कहा कि मैंने पहले ही मुख्यमंत्री के रेस से खुद को बाहर कर दिया था लेकिन कुछ लोगों ने फिर भी मेरे नाम का सुझाव दिया। लेकिन हमने उन सभी सुझावों को रिजेक्ट कर दिया जिसमें मेरा नाम था। उन्होंने कहा कि रिवाइती पार्टियां अपने बेटे-बेटी, भाई-भतीजे और बहू को मुख्यमंत्री बना देती है। भगवंत मेरा छोटा भाई है, अगर मैं इसे सीधे मुख्यमंत्री चेहरा घोषित कर देता तो लोग कहते कि हमने अपने भाई को बना दिया। इसीलिए हमने सीएम चेहरा ढूंढ़ने के लिए एक नई लोकतांत्रिक परंपरा की शुरुआत की। भारत के इतिहास में पहली बार पंजाब के लोगों ने मुख्यमंत्री चेहरे का चुनाव किया।

भगवंत मान के नाम की घोषणा होते ही वहां मौजूद आप कार्यकर्ता और नेता खुशी से झूम उठे। ढ़ोल-नगारे बजने लगे। अपने नाम की घोषणा सुन भगवंत मान भावुक हो गए। केजरीवाल ने भगवंत मान गले लगाया और अपना प्यार व शुभकामनाएं दी। केजरीवाल भगवंत मान के लिए खास तैयारी करके आए थे। उन्होंने मान के जीवन से जुड़ी रोचक बातों की वीडियो चलवायी और उसके माध्यम से उनके जीवन के बारे में लोगों को बतायी।

भगवंत मान ने बेहद भावुकता के साथ मीडिया को संबोधित किया। उनके चेहरे पर एक दृढ़ संकल्प की भावना झलक रही थी। मान ने कहा कि पंजाब अपने पैरों पर खड़ा होना जानता है। कई बार पंजाब की स्थिति खराब हुई लेकिन संघर्ष कर बार-बार उपर उठा। पंजाब और पंजाबी हमेशा उपर उठने की ही सोचता है। उन्होंने कहा कि पार्टी को हमने हमेशा से एक ही बात कही है। चाहे हमें पोस्टर चिपकाने का काम दे दो हम करेंगे, बशर्ते कि हमारा पंजाब ठीक कर दो।

मान ने कहा कि आज मेरे और आम आदमी पार्टी के लिए बेहद ऐतिहासिक दिन है। आज से हमारी जिम्मेदारी दोगुनी हो गई है। लेकिन हमे आज खुशी नहीं मनानी है। हम तब खुशी नहीं मनाएंगे, जब तक हमारा पजाब खुशहाल नहीं बनेगा। पंजाबियों के जीवन को खुशहाल बनाना ही हमारा लक्ष्य है। हम पंजाब की खुशहाली लौटायेंगे। पंजाब के नौजवानों को नशे के चंगुल से निकालेंगे और मजबूर होकर विदेश जाने वाले युवाओं को पंजाब में ही अच्छे रोजगार और उच्च शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराएंगे।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के मशहूर बयान(सपने वे नहीं जो सोते वक्त आती हो, सपने वे हैं जो हमें सोने नहीं देती) का उल्लेख करते हुए मान ने कहा कि पंजाब के सपने हमें सोने नहीं देती। पंजाब के नौजवानों को रोजगार देने के सपने, पंजाब की किसानी और किसानों को समृद्ध बनाने के सपने, नौजवानों के हाथ से टीका छीनकर टिफिन पकड़ाने के सपने और अपनी माताओं-बहनों को शसक्त और आत्मनिर्भर बनाने के सपने हमें सोने नहीं देती। हमें पजाब को देश का मुकुट बनाना है। भारत का ताज पंजाब होगा।

मान ने कहा कि हम पंजाब की खुशहाली और रौनक लौटाने के लिए ही राजनीति में आए हैं। जब भी पंजाब के लिए कुछ करने और बोलने का मौका मिला, हमने सड़क से लेकर संसद तक आवाज उठायी। पंजाब के लोगों ने मेरी कॉमेडी और राजनिति दोनों को बहुत प्यार दिया है। मान ने पंजाब के लोगों को यकीन दिलाया कि मुख्यमंत्री बनने पर हम मुख्यमंत्री के हस्ताक्षर वाले हरे रंग की कलम का इस्तेमाल पंजाब के गरीब, वंचित और आमलोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने एवं उनका हक और अधिकार दिलाने के लिए करूंगा।

मान की मां और बहन हुए भावुक…

मुख्यमंत्री बनकर अपनी कॉमेडी की तरह ही पजाब के लोगों के चेहरे पर लाएंगे मुस्कान – मनप्रीत कौर(मान की छोटी बहन)

मां ने कहा, जिस तरह आपने भगवंत को पिछले तीस साल से प्यार और समर्थन किया है उसी तरह आपको एक बार फिर समर्थन करना पड़ेगा। भगवान पंजाब पर कृपा बनाए रखें और हमेशा खुश रखें।

भगवंत मान की छोटी बहन मनप्रीत कौर पटियाला के एक प्राइवेट स्कूल में शिक्षिका हैं। मुख्यमंत्री के लिए भाई के नाम की घोषणा होने पर वे भावुक हो गईं। उन्होंने कहा कि हमलोग बेहद साधारण घर में पैदा हुए और पले-बढ़े हैं। इसीलिए मेरे भाई को आम लोगों की समस्याएं और दुख-दर्द के बारे में पता है। भाई साहब ने अपनी कॉमेडी में भी समाज की समस्याओं को उठाया। राजनीति में आने से पहले वे घर में हमेंशा बोलते थे, हंसी तभी आती है जब पेट भरा होता है। लोगों को हंसाने के लिए हमें राजनीति में आना पड़ेगा। मुझे पूरा विश्वास है कि जिस तरह उन्होंने अपनी कॉमेडी से लोगों को हंसाया उसी तरह मुख्यमंत्री बनने के बाद पंजाब के हर वर्ग के लोगों के चेहरे पर मुस्कान लाएंगे।

Leave a Comment