Afghanistan: कंधार के बाद अब लश्कर गाह पर भी तालिबान ने किया कब्जा, तीन भारतीय बचाए

अफगानिस्तान, 13 अगस्त (The News Air)
अफ़ग़ानिस्तान ( Afghanistan) से अमेरिका और नाटो बलों की वापसी के बीच तालिबान (Taliban) ने अफ़ग़ानिस्तान ( Afghanistan) के दूसरे सबसे बड़े शहर कंधार और लश्करगाह पर कब्ज़े का दावा किया है। तालिबान के कंधार पर कब्ज़ा कर लेने के बाद अब अफ़ग़ानिस्तान सरकार की परेशानियां और बढ़ गई हैं। इसके बाद अफ़ग़ानिस्तान सरकार के हाथ में सिर्फ़ राजधानी क़ाबुल और देश के कुछ और हिस्से रह गए हैं।
तालिबान (Taliban) के एक प्रवक्ता ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, कंधार पर पूरी तरह से कब्ज़ा हो चुका है। मुजाहिदीन शहर में ‘मार्टियर्स स्कवॉयर’ पर पहुंच गए हैं। न्यूज़ एजेंसी एएफपी के मुताबिक़ एक स्थानीय नागरिक ने भी इसकी पुष्टि की है। नागरिक ने बताया कि अफ़ग़ान सेना बड़ी संख्या में पीछे हट गई है और शहर के बाहर चली गई है।
अफ़ग़ान सुरक्षा बलों के एक वरिष्ठ सूत्र ने विद्रोहियों के दावे की पुष्टि करते हुए शुक्रवार को एएफपी को बताया कि तालिबान ने प्रमुख शहर लश्कर गाह पर भी कब्ज़ा जमा लिया है।
वहीं इससे पहले गुरुवार को तालिबान (Taliban) ने दो और प्रांतीय राजधानी गजनी और हेरात पर कब्ज़ा कर लिया था। इसके साथ ही पिछले एक सप्ताह में तालिबान ने 12 प्रांतीय राजधानियों पर कब्ज़ा कर लिया है। अफ़ग़ानिस्तान में 34 प्रांतीय राजधानी हैं।
बता दें कई दिनों से जारी लड़ाई पर अफ़ग़ान सुरक्षा बल और सरकार कोई टिप्पणी करने को तैयार नहीं हैं। लगातार बढ़त बना रहे तालिबान से क़ाबुल को सीधे कोई ख़तरा नहीं है मगर उसकी तेज़ बढ़त सवाल खड़े करती है कि अफ़ग़ान सरकार अपने पास बचे क्षेत्रों को आख़िर कब तक नियंत्रण में रख पाएगी।
संभवत: सरकार राजधानी और कुछ अन्य शहरों को बचाने के लिए अपने क़दम वापस लेने पर मजबूर हो जाए क्योंकि लड़ाई की वजह से विस्थापित हज़ारों लोग क़ाबुल भाग आए हैं और खुले स्थानों और उद्यानों में रह रहे हैं।
गजनी प्रांत के परिषद सदस्य अमानुल्लाह कामरानी ने एपी को बताया कि शहर के बाहर बने दो बेस अब भी सरकारी बलों के नियंत्रण में हैं।
अफ़ग़ानिस्तान के सबसे बड़े शहरों में से एक लश्कर गाह मेंको लेकर हेलमंड से सांसद नसीमा नियाज़ी ने बताया कि बुधवार को आत्मघाती कार बम हमले में राजधानी के क्षेत्रीय पुलिस मुख्यालय को निशाना बनाया गया था। गुरुवार को तालिबान ने मुख्यालय पर कब्ज़ा कर लिया और कुछ पुलिस अधिकारियों ने उनके सामने आत्मसमर्पण कर दिया तो कुछ ने पास के गवर्नर्स कार्यालय में शरण ली जो अब भी सरकारी बलों के कब्ज़े में है।
नियाज़ी ने बताया कि प्रांतीय कारागार पर भी आत्मघाती कार बम हमला हुआ हालांकि इस पर अब भी सरकारी बलों का कब्ज़ा है। मगर तालिबान बीते एक सप्ताह में अपने सैकड़ों आतंकवादियों को छुड़वा चुका है तथा हथियारों और वाहनों पर कब्ज़ा कर चुका है।
नियाज़ी ने क्षेत्रों में हवाई हमलों की निंदा की और आशंका जताई कि इसमें आम नागरिक मारे जा सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘तालिबान के लड़ाके ख़ुद को सुरक्षित करने के लिए आम लोगों के घरों का उपयोग करते हैं और सरकार नागरिकों की परवाह किए बगैर हवाई हमले कर रही है।’’
माना जा रहा है कि अमेरिकी वायु सेना हवाई हमलों में अफ़ग़ान बलों की सहायता कर रही है। अमेरिकी बम हमलों में कितने लोग मारे गए हैं इसकी अभी जानकारी नहीं मिल पाई है।
तीन भारतीय बचाए गए
वहीं अफ़ग़ानिस्तान से तीन भारतीय इंजीनियरों को रेस्क्यू किया गया है। ये तीनों उस प्रोजेक्ट साइट पर काम कर रहे थे, जो अफ़ग़ानिस्तान के सरकारी बलों के नियंत्रण से बाहर हो गया था। ये जानकारी क़ाबुल में भारतीय दूतावास ने दी। बता दें कि अफ़ग़ानिस्तान में बढ़ती हिंसा को देखते हुए सुरक्षा से जुड़ी नई एडवाइजरी जारी की गई है और उसके सख़्ती से पालन के निर्देश भी दिए गए हैं। ये तीनों इंजीनियर उस इलाक़े में काम कर रहे थे जो तालिबान के कब्ज़े में था।

Leave a Comment