आम आदमी पार्टी छोड़ कांग्रेस में शामिल होने नेता का विरोध तेज़, AAP वर्कर्स ने भी फ़ोटो पर पोती कालिख

The News Air- (चंडीगढ़) पंजाब में विधानसभा चुनाव के बीच नेताओं के दल-बदल का रिएक्शन भी देखने को मिलने लगा है। दो दिन पहले आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले आशु बाँगड़ का विरोध शुरू हो गया है। आशु बाँगड़ को आप ने फिरोजपुर देहाती से उम्मीदवार घोषित किया था, लेकिन, उन्होंने टिकट ठुकरा दिया और आम आदमी पार्टी भी छोड़ दी। बाद में आशु कांग्रेस में शामिल हो गए। यहां तक सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन, जैसे ही आशु बाँगड़ कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचे तो विरोध शुरू हो गया।

01 21

जानकारी के मुताबिक़, आशु बागड़ चुनाव कैंपेन के लिए निकले थे। यहां कांग्रेस वर्करों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि बाँगड़ के कांग्रेस में आने से सिटिंग विधायक सतकार कौर गहरी के टिकट पर संकट आ गया है। संभावना है कि पार्टी सतकार कौर का टिकट काटकर दल-बदलकर आने वाले आशु बाँगड़ को मैदान में उतार दे, इसलिए सिटिंग विधायक के समर्थक विरोध में आ गए हैं।

आप और कांग्रेसी कर रहे हैं विरोध

इससे पहले आशु बाँगड़ का आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी विरोध जताया था। उन्होंने फिरोजपुर देहाती विधानसभा हलक़े में आशु के पोस्टर फाड़े थे और उनकी तस्वीर पर कालिख पोत कर गुस्सा ज़ाहिर किया था। कांग्रेसी भी आशु का विरोध कर रहे हैं। इधर, जब हलक़े के कांग्रेसियों को पता चला कि कांग्रेस हाइकमान यहां से आशु को कांग्रेस टिकट से चुनाव मैदान में उतारने जा रहा है तो कांग्रेसियों में भी विरोध शुरू हो गया। यहां से विधायक सतकार कौर गहरी टिकट मांग रही थी, लेकिन उनकी ख़राब रिपोर्ट हाइकमान के पास पहुँची है। गुरुहरसहाए विधानसभा हलक़े से कांग्रेसी विधायक रमिंदर आवला चुनाव लड़ना चाहते हैं, लेकिन कांग्रेस उन्हें वहाँ से टिकट नहीं देना चाहती है। आवला जलालाबाद से कांग्रेसी विधायक हैं।

बाहरी बताकर किया जा रहा है विरोध

फ़िलहाल, आशु बाँगड़ को कांग्रेस जॉइन कर पार्टी के रणनीति ज़िले में जो मज़बूती तलाश रहे थे, अब उसे झटका लगता नज़र आ रहा है। क्योंकि यहां के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने पार्टी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। मोर्चा खोलने वालों में कांग्रेस की सिटिंग विधायक सतकार कौर के समर्थक हैं। यहां आशु को बाहरी बताकर विरोध किया जा रहा है। आशु बागड़ 56 किलोमीटर दूर मोगा के रहने वाले हैं। लेकिन, वह कई सालों से फिरोजपुर देहात में काम कर रहे हैं। उनकी ग्रामीण इलाक़ों में मज़बूत पकड़ है।

भाजपा यहां मज़बूत होना चाहती है

फिरोजपुर ज़िले में कांग्रेस मज़बूत होना चाहती है, इसी रणनीति के तहत आंशु बाँगड़ को पार्टी में लाया गया। क्योंकि यहां की गुरसहाय सीट से कांग्रेस के तीन बार के विधायक रहे राणा गुरमीत सोढ़ी ने भी भाजपा ज्वाइन कर ली है। राणा गुरमीत सोढ़ी के बुलावे पर ही पीएम नरेंद्र मोदी यहां सभा करने आए थे। क्योंकि फिरोजपुर बॉर्डर का इलाक़ा है, इसलिए यहां विकास की काफ़ी ज़रूरत है। राणा गुरमीत सोढ़ी की कोशिश थी कि पीएम की रैली करा कर यहां से विकास की घोषणा कराई लाए। लेकिन, फिरोजपुर देहात की कांग्रेस विधायक सत्कार गौर गैरी के गांव प्यारे आना के पास पीएम का क़ाफिला किसानों ने रोक लिया था। इसके बार पीएम वापस चले गए थे। इससे पंजाब में कांग्रेस की काफ़ी आलोचना हुई।

समझें फिरोजपुर देहात का चुनावी देहात…

बताया जा रहा है कि फिरोजपुर देहात से मौजूदा कांग्रेस विधायक सत्कार कौर गैरी लगातार मतदाता के बीच अपनी पकड़ खोती जा रही है। वह और उनके पति कई तरह के विवादों में भी आए। इस वजह से कांग्रेस उनका विकल्प तलाश रही है। इस तथ्य को जानते हुए सत्कार कौर लगातार आशु बाँगड़ का विरोध कर रही है। पिछले विधानसभा चुनाव में सत्कार कौर गैरी ने अकाली दल के उम्मीदवार जोगेंद्र सिंह को 20 हज़ार वोट से हराया था। आशु के बाग़ी होने के बाद आम आदमी पार्टी ने यहां से एडवोकेट रजनीश दहिया को टिकट दिया है। लेकिन वह आशु जितने लोकप्रिय नहीं है। कांग्रेस को लगता है कि सत्कार कौर गैरी का टिकट यहां से काट कर आशु बाँगड़ को आगे किया जाए। लेकिन अब जिस तरह से बाँगड़ का विरोध हो रहा है,इससे एक बार फिर से कांग्रेस की मुसीबत बढ़ती हुई नज़र आ रही है। देखना होगा कि कैसे कांग्रेस अपनी इस दिक्क़त पर क़ाबू पाती है।

आप के प्रत्याशी रजनीश दहिया घोषित

आम आदमी पार्टी ने फिरोजपुर देहाती हलक़े से वकील रजनीश दहिया को प्रत्याशी घोषित किया है। यहां से पहले आप के प्रत्याशी आशु बाँगड़ थे, जिन्होंने सोमवार को आप पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया था। दहिया भी इस हलक़े से टिकट की दावेदारी जता रहे थे। जब पार्टी ने बाहरी प्रत्याशी को यहां से उतारा था, तब दहिया और अन्य वालंटियर पार्टी से नाराज़ चल रहे थे।

Leave a Comment