आम आदमी पार्टी ने बहबल कलां और कोटकपूरा गोलीकांड के संदर्भ में पूछे 10 सवाल

चंडीगढ़, 30 अप्रैल

आम आदमी पार्टी ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से बहबल कलां और कोटकापूरा गोलीकांड पर 10 सवाल पूछे और कहा कि दुनिया भर में बसे पंजाबी और नानक नाम लेवा संगत इन प्रत्यक्ष और स्पष्ट सवालों का जवाब देंगे। पार्टी ने कहा कि कि 2017 में कैप्टन ने गुटखा साहिब की शपथ लेकर पंजाब के लोगों से वादा किया कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी और बहबल कला व कोटकपूरा गोलीकांड के दोषियों को सरकार आने के  बाद सलाखों के पीछे भेजा जाएगा। लेकिन आज तक दोषियों को सजा नहीं दी गई।

आप के वरिष्ठ नेता और विधायक कुलतार सिंह संधवां ने शुक्रवार को पार्टी मुख्यालय से जारी एक बयान में कैप्टन अमरिंदर सिंह से दस सवाल पूछे और जवाब देने की की मांग की।

1. क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाबियों और नानक नाम लेवा संगत के सामने स्वीकार करेंगे कि किस मजबूरी या सौदेबाजी के कारण उन्होंने आज तक दोषियों को सजा नहीं दी? हालांकि अब लोगों को पूरी सच्चाई समझ में आ गई है, लेकिन मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि जांच कमीशन और एसआईटी बनाने के बावजूद अभी तक न्याय क्यों नहीं मिला?

2. बहबल कलां और कोटकपुरा में, किसके आदेश से गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी के खिलाफ शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने वाले लोगों पर गोली चलाई गई?

3. क्या गुरु के संगत को गुरु के अपमान के खिलाफ शांतिपूर्वक विरोध करने और न्याय पाने का संवैधानिक अधिकार नहीं है?

4. तत्कालीन गृह मंत्री और उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल यह बताने से क्यों भागते हैं कि किसके आदेश पर 182 पुलिस व अधिकारी अक्टूबर 2015 में रातोंरात कोटकपूरा पहुंचे थे? गृह मंत्री होने के नाते अब कैप्टन अमरिंदर सिंह को यह बात स्पष्ट करनी चाहिए।

5. तत्कालीन बादल सरकार ने घायलों का इलाज नहीं कराया और एमएलआर नहीं काटा और उन्हें रिकॉर्ड पर नहीं लाया। क्या कैप्टन बताएंगे कि इलाज और न्याय के लिए भटक रहे पीड़ितों के लिए उन्होंने क्या ठोस कदम उठाए हैं?

6. बादल राज में आग लगाने वाली पुलिस को अज्ञात पुलिस घोषित किया गया। यदि कैप्टन 4 साल में उन अज्ञात पुलिसकर्मीयों की पहचान भी नहीं कर पाए, तो क्या उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने का हक है?

 7. जिन पुलिसकर्मियों द्वारा पुलिस ने गोली चलाती दिखाई है, वे अपने बयानों में स्पष्ट रूप से इंकार कर रहे हैं, फिर संगतों पर गोली किसने चलाई?

8. मौके के सीसीटीवी फुटेज क्यों डिलीट किए गए? पुलिस द्वारा बुलाए गए फोटोग्राफरों के वीडियो और फ़ोटो क्यों हटाए गए व अभी तक इस मामले की पूरी जांच क्यों नहीं की गई?

9. कुंवर विजय प्रताप सिंह के अलावा अन्य अधिकारी जो एसआईटी के सदस्य थे, ने उच्च न्यायालय में याचिकाकर्ता द्वारा लगाए गए आरोपों का विरोध क्यों नहीं किया? जब उन्होंने विरोध नहीं किया, तो सरकार ने नोटिस क्यों नहीं लिया? क्या इस तरह से याचिकाकर्ता को दी गई मदद एसआईटी के सदस्यों और कैप्टन के बीच मैच फिक्सिंग के कारण नहीं दी गई?

10. पंजाब पुलिस ने कहा कि विरोध प्रदर्शन को उठाने का कारण कोटकापूरा में सामान्य यातायात प्रभावित होना था। क्या कारण उचित है? हमारे किसान भी महीनों से हाईवे पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस अर्थ में, तो पंजाब पुलिस कहीं भी प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाएगी?

Leave a Comment